मलयेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद बोले- जाकिर नाइक को नहीं भेजेंगे हिंदुस्तान

Pulwama Terror Attack: परवेज मुशर्रफ ने माना हमले में जेईएम का हाथ, लेकिन पाकिस्तान पर हमला करना नरेंद्र मोदी की बड़ी भूल होगी

बांग्लादेश की राजधानी ढाका में 5 इमारतों में लगी भीषण आग, 70 की मौत, राहत और बचाव कार्य जारी

पुलवामा आतंकी हमले को डोनाल्ड ट्रंप ने बताया ‘भयावह’, कहा अच्छा होगा अगर भारत-पाक साथ आ जाएं

पुलवामा हमला: भारत के एक्शन से पहले घबराया पाकिस्तान, UN के महासचिव को पत्र लिखकर हस्तक्षेप की लगाई गुहार

अमेरिका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने लगाई इमरजेंसी, मैक्सिको बोर्डर पर बनाई जाएगी दीवार

अमेरिका-मैक्सिको सीमा पर दीवार बनाने पर अड़े डोनाल्ड ट्रंप, जल्द करेंगे आपातकाल की घोषणा

2018-07-06_Radical-Indian-preacher.jpg

कई दिनों से इस्लामिक धर्म गुरु जाकिर नाईक के भारत आने की खबरें आ रही थीं। लेकिन अब मलेशिया के प्रधानमंत्री महाथिर मोहम्मद ने आज कहा कि विवादस्पद भारतीय इस्लामिक उपदेशक को भारत नहीं भेजा जाएगा। बता दें कि जाकिर नाईक ने 2016 में भारत छोड़ दिया था। जिसके बाद वह मलेशिया चला गया। वहां जाकिर नाईक को मलेशिया सरकार ने स्थाई निवास दिया है। नाईक पीस टीवी के माध्यम से लोगों को भड़काने का काम करता था। साथ ही लोगों को धर्म परिवर्तन करने के लिए उकसाता था।  

भारतीय मीडिया के मुताबिक जनवरी में मलेशिया और भारत के बीच एक संधि हुई थी। जिसमें कहा गया था कि जाकिर नाईक प्रत्यर्पण करना है। प्रधानमंत्री महाथिर ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि जाकिर जब तक कोई समस्या पैदा नहीं करता है तब तक उसे भारत नहीं भेजा जाएगा। क्योंकि उसे यहां पर स्थाई निवास स्थान दिया गया है। 

रिपोर्टों में कहा गया है कि भारत ने नाईक को नफरत भरे भाषणों के माध्यम से आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने के लिए कथित रूप से युवाओं को उत्तेजित किया है। इसलिए उसे भारत भेजा जाना चाहिए। इसके बाद 52 वर्षीय नाइक ने मीडिया रिपोर्टों को पूरी तरह आधारहीन और झूठी बताया है। 



loading...