3 दिन के लिए वन-वे होगा यमुना एक्सप्रेसवे, गाड़ियों की आवाजाही के लिए डायवर्जन प्लान

2017-11-14_kaka54.jpg

यमुना एक्सप्रेसवे मध्य दिसंबर के बाद 3 दिन के लिए वनवे रहेगा. NHAI इसके ऊपर जगनपुर अफजलपुर के पास ईस्टर्न पेरिपेरल के लिए फ्लाईओवर बनाएगा. इस दौरान एक्सप्रेसवे पर वाहनों की आवाजाही सामान्य रखने के लिए डायवर्जन प्लान बनाया जाएगा.

एक्सप्रेसवे को 3 दिन के लिए वनवे करने के मसले पर राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI ) के अधिकारी सोमवार को यमुना प्राधिकरण के एसीईओ अमरनाथ उपाध्याय से मिले. उनको इस बारे में जानकारी दी. एसीईओ ने (NHAI ) के अधिकारियों से कहा कि एक्सप्रेसवे पर काम शुरू करने से कम से कम 15 दिन पहले लिखित प्रस्ताव दे दें, जिससे कि ट्रैफिक डायवर्जन का सही तरीके से प्लान बनाया जा सके. साथ ही सुरक्षा के उपाय किए जा सकें और लोगों को इसकी जानकारी दी जा सके.

NHAI के अधिकारियों ने बताया कि पूरा एक्सप्रेसवे बंद करने के बजाय एक तरफ के एक्सप्रेसवे को बंद किया जाएगा. दूसरी तरफ का एक्सप्रेसवे से चालू रहेगा, ताकि वाहनों की आवाजाही न रुके. NHAI के अधिकारियों ने बताया कि फ्लाईओवर बनाने की तैयारी पहले ही कर ली जाएगी. इन 3 दिनों में पहले से तैयार गार्डर को स्लैब पर रखने का काम किया जाएगा. इससे वाहन चालकों को दिक्कत नहीं होगी.

ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे को यमुना एक्सप्रेसवे को जोड़ने की पूर्व में बनी योजना पर फिर से चर्चा शुरू हो गई है. NHAI अब तक यमुना प्राधिकरण से फ्री में जमीन और इसे बनाने का खर्च जेपी कंपनी से मांग रहा था, लेकिन कई दौर की चर्चा के बाद अब इस पर सहमति बनती दिख रही है कि यमुना प्राधिकरण जमीन अधिग्रहण की दर व कुछ अन्य खर्च को जोड़कर कम से कम कीमत पर जमीन उपलब्ध करा दे. इसे बनाने का खर्च NHAI वहन कर लेगा. एनएचआई इस मसले पर जल्द ही अपने उच्चाधिकारियों की बैठक कर निर्णय लेगा. इस मसले पर यमुना प्राधिकरण में आज (मंगलवार को) भी बैठक प्रस्तावित है.

जानकारों का मानना है, कि अगर यमुना एक्सप्रेसवे और ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे आपस में जुड़ जाते हैं तो इससे सोनीपत, बागपत, गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर, फरीदाबाद और पलवल से आने-जाने वाले वाहन यमुना एक्सप्रेसवे से जुड़े जाएंगे. इसी तरह यमुना एक्सप्रेसवे के यात्री इस ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे का सफर कर सकेंगे.

यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में प्रस्तावित एयरपोर्ट, बस अड्डा, मेट्रो को देखते हुए भी दोनों एक्सप्रेसवे को जोड़ना जरूरी है. इसके अलावा भविष्य में ईस्टर्न पेरिफेरल के साथ ही पेरिफेरल ट्रेन बनाने पर भी चर्चा हो सकती है. उसका भी लोगों को लाभ मिल सकेगा.



loading...