ताज़ा खबर

गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा करते हुए बिगड़ी तेज प्रताप यादव की तबियत, छठ मनाने नहीं गए घर

आंध्र प्रदेश के गुंटुर में स्कूल बस पलटने से 20 बच्चे घायल, 2 की हालत गंभीर

आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और उड़ीसा में हाई अलर्ट, आज तांडव मचा सकता है चक्रवाती तूफान ‘पेथाई’

सीएम चंद्रबाबू नायडू ने जनता को दी बड़ी राहत, आंध्र प्रदेश में 2 रुपए कम हुए पेट्रोल-डीजल के दाम

जूनियर NTR के पिता और पूर्व मुख्यमंत्री एनटी रामाराव के बेटे नंदामुरी हरिकृष्णा की सड़क हादसे में मौत

आंध्रप्रदेश के चित्तूर में पत्नी से झगड़े के चलते गुस्साए पति ने 3 बेटों को नदी में फेंका

आंध्र प्रदेश में एंबुलेंस न मिलने से 8 महीने की गर्भवती महिला को लेकर 12 किमी पैदल चला पति, रास्ते में हुई डिलिवरी के बाद बच्चे की मौत

2018-11-13_TejPratapYadav.jpg

लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव पिछले कुछ दिनों से पत्नी ऐश्वर्या राय से तलाक लेने की खबरों को लेकर चर्चा में हैं. इसके अलावा वह घर न लौटकर तीर्थस्थलों का भ्रमण कर रहे हैं. जबकि मां राबड़ी देवी और पत्नी उनका पटना में लौटने का इंतजार कर रहे हैं. इसी बीच खबर है कि तेज प्रताप बिना कुछ खाए-पिए गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा कर रहे थे. जिसकी वजह से उनकी तबीयत बिगड़ गई है. 

दरअसल, वृंदावन के लोगों और पुजारियों ने तेज प्रताप को बताया है कि यदि कोई कार्तिक महीने में गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा करता है तो उसकी सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं. बताया जा रहा है कि वह सभी धामों की यात्रा पूरी करने के बाद ही पटना स्थित अपने घर वापस लौटेंगे. तेज प्रताप ने ऐश्वर्या से तलाक लेने के लिए पटना की एक पारिवारिक अदालत में अर्जी दाखिल की की है. जिस पर 28 नवंबर को सुनवाई होनी है. 

पूरा यादव परिवार तेज प्रताप के तलाक के फैसले के खिलाफ है. वह उन्हें समझाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन वह बिलकुल भी मानने के मूड में नहीं हैं. इसी सिलसिले में उन्होंने गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा की है. मान्यता है कि कार्तिक महीने में गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. इसी बात से तेज प्रताप को हौसला मिला और उन्होंने 21 किलोमीटर से ज्यादा की यात्रा को पूरा किया.

तेज प्रताप ऊबड़-खाबड़ वाले रास्ते पर नंगे पैर साढ़े पांच घंटे तक चले. इस यात्रा के दौरान लालू के लाल भगवान कृष्ण की भक्ति में इतने डूबे रहे कि उन्होंने रास्ते में कुछ भी नहीं खाया-पिया. श्याम कुंड और राधा कुंड में नहाने के बाद उन्होंने शाम को सात बजे अपनी यात्रा की शुरुआत की जो देर रात एक बजे खत्म हुई. वापसी में भी उन्होंने श्याम कुंड और राधा कुंड में स्नान किया. इसके बाद वह आश्रम लौट आए.

गोवर्धन पर्वत की यात्रा करने से तेज प्रताप काफी थक गए हैं. उन्के पैरों में सूजन आ गई है. यदि उनकी सेहत सही रहती है तो वह आने वाले दिनों में चार धामों में से किसी एक धाम की यात्रा पर निकल जाएंगे. माना जा रहा है कि जब तक सभी धामों की यात्रा पूरी नहीं हो जाती है वह घर लौटने के बारे में विचार नहीं करेंगे. कुछ दिनों पहले वह छोटे भाई तेजस्वी यादव के जन्मदिन में शामिल होने के लिए दिल्ली आए थे.



loading...