रेप आरोपी गायत्री प्रजापति के मंत्री बने रहने पर राज्यपाल ने सीएम अखिलेश से मांगा जवाब

गाजियाबाद में सीवर की सफाई करने उतरे 5 लोगों की मौत

अयोध्या मामला: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी, याचिकाकर्ता के वकील ने कहा- मैं श्री राम उपासक हूं और मुझे जन्मस्थान पर उपासना का अधिकार है

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने DJ बजाने पर लगाई रोक, ध्वनि प्रदूषण होने पर थाना इंचार्ज होंगे जिम्मेदार

अयोध्या मामला Live: रामलला के वकील बोले- कोई मंदिर कोई देवता नहीं तो फिर भी लोगों की जन्मभूमि के प्रति आस्था ही काफी है

योगी मंत्रिमंडल का विस्तार, 6 कैबिनेट, 6 स्वतंत्र प्रभार और 11 राज्य मंत्रियों ने ली शपथ

योगी सरकार का कल होगा मंत्रिमंडल विस्तार, जानें किन नए चेहरों को मिल सकता है मौका

2017-03-05_Ram-Naik-Akhilesh-Yadav.jpg

यूपी के राज्यपाल राम नाईक ने सपा नेता व कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रजापति के खिलाफ अदालत से गैरजमानती वारंट जारी हो जाने को खासा गंभीरता से लिया है। उन्होंने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से पूछा है कि गायत्री प्रजापति के मंत्रिमंडल में बने रहने का क्या औचित्य है और मुख्यमंत्री इस पर अपनी राय से उन्हें जल्द से जल्द अवगत करायें।

गौरतलब है कि गायत्री सहित मामले में आरोपी छह अन्य लोगों के खिलाफ गैर जमानती वारंट कोर्ट से जारी किया जा चुका है।

गायत्री प्रसाद प्रजापति यूपी सरकार में परिवहन मंत्री हैं और गैंगरेप का केस दर्ज होने के बाद से ही फरार हैं। उनकी तलाश में अलग-अलग शहरों में छापेमारी हो चुकी है।

गायत्री के देश छोड़कर भागने की आशंका को देखते हुए उनका पासपोर्ट भी रद्द कर दिया गया है। अभी तक गायत्री कानून की ‌गिरफ्त में नहीं आए हैं।



loading...