महाभारत 2019: बंगाल के लिए भाजपा की तैयारी, दिया ‘इबार बांग्ला’ का नारा

2018-06-01_westbengal.jpg

भारतीय जनता पार्टी ने उपचुनावों में हार की बाद अपनी कमर और सही ढंग से कसने की तैयारी कर ली है. ‘इबार बांग्ला’ ये है भाजपा की तैयारी. पश्चिम बंगाल लोकसभा चुनाव के लिए एजेंडा जारी किया है- ‘इबार बांग्ला’ (इस बार बंगाल). 

ममता के खिलाफ भाजपा और संघ लगभग वही हथकंडे अपना रहे हैं, जिन तरीकों से कभी ममता ने कामरेडों की सरकार को नेस्तोनाबूत करने के लिए किया था. ममता ने दुर्गापूजा को अपना जनाधार बढ़ाने और कम्युनिस्टों के खिलाफ माहौल बनाने का जरिया बनाया था. 

बंगाल में लगभग 27% मुसलमान हैं. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष कहते हैं, "ममता बनर्जी इस आबादी को तुष्ट करने के उपाय करती हैं." चाहे, मुहर्रम के दिन मां दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन पर रोक हो या आरएसएस प्रमुख व भाजपा अध्यक्ष के कार्यक्रमों को मंजूरी नहीं देना, भाजपा इसे बड़ा मुद्दा बनाती रही है. 

ऐसा कहा जाता है कि भाजपा, बंगाल में इस रणनीति पर आगे बढ़ी हुई है कि पहले ममता से कामरेडों का राज खत्म कराओ, फिर ममता को टारगेट कर अपने लिए ठोस गुंजाइश बनाओ? भाजपा की लाइन कामयाब है. 34 साल बदस्तूर राज करने वाले कामरेडों को तीसरे-चौथे पायदान पर धकेल देना हंसी-खेल नहीं है.

माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी कहते हैं-"दोनों, जानबूझकर ऐसा कर रहे. उनके बीच गुप्त समझौता है. ममता के घरवालों के पास इतनी संपत्ति कहां से आ गई? चिटफंड कंपनियों के घोटाले जैसे कई मामले हैं, लेकिन केंद्रीय एजेंसियां क्या कर रहीं हैं?"

माकपा नेता एबी बर्धन भी यही बात कहते हैं-"भाजपा से समझौते के तहत तृणमूल उसे बंगाल में बड़ी चालाकी से मजबूत बना रही है."

सीताराम येचुरी के अनुसार, हमारा नारा है-मोदी हटाओ, देश बचाओ; तृणमूल हटाओ बंगाल बचाओ. भाजपा-तृणमूल सिक्के के दो पहलू हैं.

पार्थ चटर्जी का कहना है कि अब हमारा निशाना भाजपा है. हम भाजपा के खिलाफ छोटे दलों की एकता के पक्ष में हैं, लेकिन माकपा से तालमेल नहीं होगा.
 
वहीँ इस बारे में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि ममता प्रधानमंत्री बनने का सपना छोड़ें. लोगों ने कामरेडों से बचने तृणमूल का सहारा लिया. अब इससे भी ऊब चुके हैं.

कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी ने बताया कि सब भाजपा को रोकने की पहल करें. हम आलाकमान का फैसला मानेंगे. 



loading...