पश्चिम बंगाल: तेज आंधी के चलते 11 लोगों की मौत, कई घायल, 24 ट्रेनें प्रभावित

2018-04-18_bengal5.jpg

पश्चिम बंगाल के कई इलाकों में मंगलवार की शाम को आंधी-तूफान के साथ तेज बारिश हुई। इसमें 11 लोगों की मौत हो गई। मौसम विभाग के मुताबिक, हवाएं 84 से 98 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलीं। इससे कई इलाकों में पेड़ और घरों की छतें उड़ गईं। जगह-जगह जाम लग गया। लोगों को ऑफिस से या बाजारों से घर पहुंचने में दिक्कत हुई।

मौसम विभाग के रीजनल डायरेक्टर जीके दास ने बताया- "इस मौसम में इस तरह की आंधी-तूफान आना आम है। शाम को करीब 7:55 बजे कोलकाता समेत राज्य के कई हिस्सों में करीब 98 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। कुछ जगहों पर हवाओं की रफ्तार 84 किमी/घंटा थी। तेज हवाओं से कई जगह नुकसान हुआ। कोलकाता पुलिस ने बताया कि शहर में कम से कम 26 जगहों पर पेड़ गिरे देखे गए।

आंधी और बारिश की वजह से करीब 11 लोगों की मौत हो गई। कोलकाता में चार, हावड़ा में चार लोगों की जान चली गई। वहीं, एक शख्स की मौत बांकुरा जिला में हुई। कुछ लोग जख्मी भी हुए हैं। आंधी की वजह से कोलकाता और उससे जुड़े इलाकों में मोबाइल और इंटरनेट सेवा पर भी असर पड़ा। उत्तरपारा और हिंदमोटर में दो मोबाइल टॉवर गिर गए। इससे ट्रैफिक पर असर पड़ा।

कई इलाकों में मेट्रो पर भी असर पड़ा। बेलगाचिया और दम दम स्टेशंस के बीच मेट्रो सर्विस को करीब 2 घंटे के लिए बंद करना पड़ा। ट्रैक पर पानी भरने और पेड़ गिरने की शिकायतें मिलीं। ऐसा ही हाल शहर के दूसरे इलाकों का भी रहा। कोलकाता म्युनिसिपिल कॉर्पोरेशन ने डिजास्टर मैनेजमेंट टीम को रास्ता साफ करने के लिए भेजा। ईस्टर्न रेलवे के सूत्रों ने एजेंसी को बताया कि आंधी की वजह से बिजली का वायर टूटने से ट्रेन सर्विस पर भी असर पड़ा। 

एयरपोर्ट अफसरों ने भी ट्विटर पर कुछ फ्लाइट्स की उड़ान में देरी की आशंका जताई और मैसेज ट्विटर पर दिए। इन्होंने लिखा- " मौसम विभाग ने 9:30 बजे तक बारिश और आंधी की चेतावनी जारी की है। इससे उड़ानों में देरी हो सकती है। कृपया अपने एयरलाइंस से इस बारे में अपडेट ले लें।"



loading...