जातीय हिंसा से परेशान मुंबई के हाल पर भड़के फ़िल्मी सितारे, ट्वीट कर जताई नाराजगी

2018-01-04_bollywood5.jpg

पुणे में हुई हिंसा के अगले दिन मंगलवार को महाराष्ट्र के विभिन्न भागों में गुस्साए दलितों ने प्रदर्शन किए, रेल व सड़क यातायात रोका और बुधवार को राज्यव्यापी बंद का आह्वान किया. इस घटना पर बॉलीवुड के कई सितारों ने अपना विरोध दर्ज कराया है. 

फिल्मकार अशोक पंडित ने ट्वीट किया कि हिंसा के डर की वजह से कर्मचारी अपने काम पर नहीं पहुंच पाए, जिसके कारण फिल्म सिटी, मध और अन्य स्थानों पर फिल्म और टीवी की शूटिंग रुक गई. यह दुखद है.

वहीं, निर्देशक अनुभव सिन्हा ने ट्वीट किया कि मुझे नहीं पता कि मैं छोटे बच्चों को कैसे समझाऊं कि आज महाराष्ट्र में क्या हुआ. मुझे क्या कहना चाहिए ताकि वे समझ सकें? वे जानना चाहते हैं. वहीं, राहुल ढोलकिया ने ट्वीट किया कि जातीय राजनीति, हिंदू-मुस्लिम की राजनीति और वर्ग की राजनीति, अंतत: भारत को नष्ट कर देगी. शासन करने की शक्ति खतरनाक है! सिनेमा नहीं मारता, राजनीति मारती है..

विशाल ददलानी ने ट्वीट किया कि जाति और धर्म वास्तव में लोगों के बीच सबसे निंदनीय, सबसे 'राष्ट्र-विरोधी’ विभाजन हैं. जो लोग इन बेवकूफ और पुरानी लाइनों के साथ मानवता को विभाजित करने की तलाश में रहते हैं, वह जीवन और मृत्यु दोनों में अनन्त दु:खों का सामना करते हैं.

बता दें कि भीमा कोरेगांव की लड़ाई की 200वीं वर्षगांठ से जुड़े कार्यक्रम के बाद भड़की हिंसा के विरोध में बुलाए गए महाराष्ट्र बंद को भारिप बहुजन महासंघ नेता और बी आर अंबेडकर के पोते प्रकाश अंबेडकर ने वापस ले लिया है. प्रकाश अंबेडकर ने राज्य सरकार पर 2 दिन पहले पुणे जिले के भीमा कोरेगांव गांव में हिंसा रोकने में ‘विफल’ रहने का आरोप लगाते हुए बंद का आह्वान किया था.



loading...