विडियो: उत्तरप्रदेश के अस्पताल में कटे पैर को बनाया रोगी का तकिया

2018-03-12_jhansibrutalaccident.jpg

यूपी के झाँसी से एक दिल को हिलाने वाला प्रकरण सामने आया है. इस मामले के दो पहलू हैं. असल में यहाँ एक स्कूल बस के पलटने से एक व्यक्ति का पैर कट गया. आनन-फानन में उसे अस्पताल में दाखिल कराया गया. परन्तु देर होने की वजह से उसके कटे हुए पैर को जोड़ा नहीं जा सका. हैरान करने वाली बात ये है कि जिस व्यक्ति का पैर कटा. उसका पैर उसी के सिर के नीचे तकिया बनाकर लगा दिया गया. पैर जोड़ने की बात तो दूर विडियो बनाकर उसे सोशल मीडिया पर उपलोड कर दिया गया. इस घटना से लगता है अस्पताल और डॉक्टर्स ने अपने प्रोफेशन पर दाग लगाने की ठान ली है.

वहीं दूसरा पहलू कहता है कि इसमें अस्पताल और डॉक्टर्स की कोई गलती नहीं है. दरअसल, घटना हुयी की एक रोगी को एक्सीडेंट की गंभीर हालात में एमरजेंसी में मेडिकल कॉलेज में दाखिल कराया गया. जहाँ डॉक्टर्स को एम्पुटेशन करना पड़ा क्यूंकि इसके सिवाए उनके पास और रास्ता नहीं था.

इस बीच रोगी की बहन ने अस्पताल पहुंचकर डॉक्टर्स से भाई का पैर जोड़ने की मांग की. लेकिन डॉक्टर्स ने असमर्थता बयान करदी. इसके बाद लड़की ने भाई के पैर की मांग यह कहते हुए की कि वह उसका पैर किसी प्राइवेट अस्पताल में जुड़वा लेगी. डॉक्टर्स के मना करने पर बहन वाद-विवाद करने लगी. विवाद बढ़ता देख डॉक्टर्स ने सभी जरुरी कागजात भरकर उसे पैर ले जाने की इजाज़त दी. डॉक्टर्स के अपने रूम में जाने पर लड़की ने भाई का पैर उसके सिर के नीचे रखकर उसका विडियो बनाना शुरू कर दिया. आप इस विडियो में देख सकते हैं लड़की विडियो बना रही है और विडियो में एक शख्स उसके बेड के पास खड़ा है. अब यहाँ सोचने वाली बात है, कि भाई की चोट से ज्यादा लड़की उस अस्पताल की बदनामी कराने पर अमादा क्यूँ थी? क्या भाई की चोट से ज्यादा अस्पताल था?

इस सारे मामले में मीडिया का रोल भी थोड़ा संदेहास्पद लगता है. खैर हम भी इस घटना की पुष्टि नहीं करते परन्तु ये जो घटना हुयी है वाकई में इसने एक बार फिर मानवता की भावना को हिला कर रख दिया है.



loading...