ताज़ा खबर

Video- कांग्रेस विधायक नितेश राणे ने PWD इंजीनियर को कीचड़ से नहलाया फिर पुल से बांधा

भारी बारिश से फिर थमी मायानगरी की रफ़्तार, सड़कों पर जगह-जगह जलभराव से लगा जाम, पानी में डूबे रेलवे ट्रैक

मुंबई: बांद्रा में MTNL की बिल्डिंग में लगी भीषण आग, दमकल की 20 गाड़ियां मौजूद, छत पर फंसे लोगों को निकालने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

महाराष्ट्र के पुणे में बड़ा दर्दनाक हादसा, ट्रक और कार की भीषण टक्कर में 9 की मौत

मुबंई पुलिस ने अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के भतीजे रिजवान कासकर को हवाई अड्डे से किया गिरफ्तार, देश से भागने की तैयारी में था

महाराष्ट्र: विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस से NCP ने मांगी बराबर सीटें, कहा- आम चुनाव में हमने अच्छा प्रदर्शन किया

मुंबई के डोंगरी में चार मंजिला इमारत गिरी, 2 की मौत, कई लोगों को बाहर निकाला, बचाव कार्य जारी

2019-07-04_Nitesh.jpg

कुछ दिन पहले मध्य प्रदेश में बीजेपी के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय के बेटे और विधायक आकाश विजयवर्गीय द्वारा नगर निगम अधिकारी को बैट से पीटे जाने की घटना के बाद अब महाराष्ट्र से भी ऐसी ही एक खबर सामने आई है. महाराष्ट्र के पूर्व सीएम नारायण राणे के बेटे और कांग्रेस विधायक नितेश राणे और उनके समर्थकों ने लोक निर्माण विभाग (PWD) इंजीनियर पर कीचड़ फेंका और उन्हें रस्सी से बांध दिया. महाराष्ट्र की कणकवली सीट से कांग्रेस विधायक नितेश राणे को सिंधुदुर्ग-गोवा हाईवे पर गढ्ढों को लेकर शिकायत मिली थी. लोगों की शिकायत थी कि इस हाईवे पर गढ्ढे हैं और बारिश के कारण इनमें पानी भर जाता है.

लोगों का कहना है कि पिछले कई दिनों से यहां से गुजरने वाले कई लोगो इसके चलते दुर्घटना का शिकार हुए हैं. स्थानीय लोगों में इन दुर्घटनाओं को लेकर काफी रोष था. यहां गडनदी पुल से जाने वाले पूरे रास्ते पर गढ्ढे ही गढ्ढे हैं.   
  
लोगों की शिकायत पर गुरुवार को स्थानीय विधायक नितेश राणे अपने कार्यकर्ताओ के साथ यहां पर पहुंचे. उन्होंने पीडब्ल्युडी के इंजीनियर प्रकाश खेडेकर को घटनास्थल पर बुलाया. इस दौरान गढ्ढे और कीचड़ के कारण जनता को जो परेशानी का सामना करना पड रहा है उसका अहसास इंजीनियर को हो इसके लिए उन्होंने कार्यकर्ताओ से इंजीनियर पर कीचड़ डलवाया. साथ ही साथ उनके समर्थकों ने इंजीनियर को बांधने की भी कोशिश की.

विधायक नितेश राणे ने कहा, 'गोवा को जोडनेवाला यह महत्त्वपूर्ण हाईवे है. यहां पर चौबीसो घंटे गाड़ियों की आवाजाही लगी रहती है. ऐसे में गढ्ढों में बारिश का पानी भरने से गाड़ियों पर कीचड़ उड़ता है. जिनके जिम्मे इसकी मरम्मत का काम हो उन्हें यह अहसास होना चाहिए इसलिए यह किया गया है.'



loading...