ताज़ा खबर

उत्तराखंड हाईकोर्ट से बाबा रामदेव की दिव्य फार्मेसी को बड़ा झटका, मुनाफे का कुछ हिस्सा स्थानीय लोगों में बांटने का आदेश

देहरादून की रैली में बोले राहुल गांधी, 2019 में कांग्रेस की सरकार बनेगी, हर गरीब को न्यूनतम इनकम दी जाएगी

लोकसभा चुनाव: उत्तराखंड में बीजेपी को लग सकता है बड़ा झटका, कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं पूर्व सीएम बीसी खंडूरी के बेटे मनीष खंडूरी

पुलवामा मुठभेड़ में शहीद हुए मेजर विभूति को आखिरी सलामी, ताबूत चूमकर पत्नी बोलीं I Love You

उत्तराखंड: देहरादून में तमसा नदी पर बना 100 साल पुराना पुल टूटने से 2 लोगों की मौत, 3 घायल

आईएएस स्टिंग मामले में नैनीताल हाईकोर्ट से उत्तराखंड सरकार को बड़ा झटका

उत्तराखंड: उच्च न्यायालय ने नगर पालिकाओं-पंचायतों में 7 दिन के भीतर चुनाव प्रकिया शुरू करने के दिए आदेश

2018-12-29_RamdevHC.jpg

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने बाबा रामदेव की दिव्य फार्मेसी को आदेश दिया है कि वह अपने मुनाफे में से 2 करोड़ रुपए स्थानीय किसानों और समुदाय में बांटे. कोर्ट ने उत्तराखंड बायोडाइवर्सिटी बोर्ड (यूबीबी) के खिलाफ दायर दिव्य फार्मेसी की याचिका खारिज कर दी और जैव विविधता अधिनियम 2002 के तहत मुनाफे को स्थानीय लोगों के साथ साझा करने के प्रावधानों को लागू करने को कहा.

जस्टिस सुधांशू धूलिया ने कहा- सच तो यह है कि आयुर्वेदिक दवाएं बनाने के लिए प्राकृतिक संसाधनों (जड़ी-बूटी) का इस्तेमाल किया गया. इस कच्चे माल के लिए रामदेव की कंपनी को 421 करोड़ रुपए के फायदे में से 2 करोड़ स्थानीय लोगों को बांटना चाहिए.

इससे पहले यूबीबी ने बायोलॉजिकल डाइवर्सिटी एक्ट के तहत कंपनी को किसानों और स्थानीय समुदाय को फायदे का हिस्सा बांटने का निर्देश दिया था. उधर, फार्मेसी ने दावा किया था यूबीबी के पास इस तरह का आदेश देने की न तो शक्तियां है और न ही यह उसके अधिकार क्षेत्र में आता है. लिहाजा हम किसी तरह का हिस्सा देने के लिए बाध्य नहीं हैं.

अदालत ने कहा- यूबीबी अपने अधिकारों के भीतर रकम की मांग करने वाला आदेश दे सकता है. क्योंकि जैविक संसाधन केवल राष्ट्रीय संपत्ति नहीं बल्कि उन समुदायों के भी हैं जो इनका उत्पादन करते हैं.

यूबीबी ने बायो डाइवर्सिटी एक्ट 2002 के एक प्रावधान के तहत दिव्य फॉर्मेसी की बिक्री के आधार पर लेवी फीस मांगी थी. लेकिन दिव्य फार्मेसी इसके खिलाफ उत्तराखंड हाईकोर्ट चली गई. फार्मेसी के ज्यादातर आयुर्वेदिक प्रोडक्ट जंगलों और पहाड़ी इलाकों से जुटाए गई जड़ी-बूटी और हर्बल चीजों से बनते हैं. एक्ट के मुताबिक, इनसे कमाई का हिस्सा इलाके में रहने वाले लोगों के साथ बांटना जरूरी है.



loading...