ताज़ा खबर

शिक्षा के स्तर को सुधारने के लिए uttrakhand सरकार का आया नया फैसला

2016-12-16_studentstudy.jpg

uttrakhand सरकार चाहती है कि अब शिक्षा जो सभी के लिए ज़रूरी है, उसका स्तर और बढ़ जाए. इसी बाबत सरकार ने कुछ नये निर्णय लिए हैं. प्राइवेट परीक्षा व्यवस्था तत्काल प्रभाव से बंद कर दी गई है. इसके बाद अगले शैक्षिक सत्र में स्नातक और पीजी स्तर की कक्षाओं में प्रथम वर्ष की प्राइवेट परीक्षा बंद कर दी जाएगी. प्राइवेट परीक्षा व्यवस्था तत्काल प्रभाव से बंद कर दी गई है. इसके बाद अगले शैक्षिक सत्र में स्नातक और पीजी स्तर की कक्षाओं में प्रथम वर्ष की प्राइवेट परीक्षा बंद कर दी जाएगी.

इसके बाद हर साल क्रमवार द्वितीय, तृतीय वर्ष में दोनों स्तरों पर प्राइवेट परीक्षा की व्यवस्था बंद कर दी जाएगी. इसी क्रम में मुक्त विवि की दूरस्थ शिक्षा व्यवस्था को लागू किया जाता रहेगा. इसके बाद हर साल क्रमवार द्वितीय, तृतीय वर्ष में दोनों स्तरों पर प्राइवेट परीक्षा की व्यवस्था बंद कर दी जाएगी. इसी क्रम में मुक्त विवि की दूरस्थ शिक्षा व्यवस्था को लागू किया जाता रहेगा.

अगले शैक्षिक सत्र से ये प्राइवेट से पढ़ाई कर रहे सभी छात्र मुक्त विश्वविद्यालय में शिफ्ट हो जाएंगे. सरकार की हरी झंडी के बाद अपर सचिव-उच्च शिक्षा नितिन भदौरिया ने इस बाबत आदेश जारी कर दिए.

राज्य के स्नातक और पीजी स्तर पर प्राइवेट पढ़ाई भविष्य में नहीं होगी. सरकार ने शैक्षिक सत्र 2017-18 से व्यक्तिगत परीक्षा की व्यवस्था खत्म कर दी है. इसकी जगह मुक्त विश्वविद्यालय से दूरस्थ मोड में पढ़ाई की जा सकेगी.स्नातक और पीजी स्तर पर प्राइवेट मोड में पढ़ाई करा रहे कुमाऊं और श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय को इस बाबत आदेश जारी कर दिए गए हैं.

 

काफी जद्दोजहद के बाद सरकार इन नतीजों पर पहुँचीं:

मुक्त विश्वविद्यालय में शिफ्ट होंगे सभी प्राइवेट छात्र. 
शैक्षिक सत्र 2017-18 से होगी नई व्यवस्था लागू.
डेढ़ लाख से ज्यादा छात्र करते हैं प्राइवेट पढ़ाई 
लंबी मशक्कत के बाद सरकार ने किया फैसला 
मुक्त विश्वविद्यालय में शिफ्ट होंगे सभी प्राइवेट छात्र
शैक्षिक सत्र 2017-18 से होगी नई व्यवस्था लागू
डेढ़ लाख से ज्यादा छात्र करते हैं प्राइवेट पढ़ाई

 



loading...