अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अगले साल गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि हो सकते हैं

2020 तक लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट को इस मामले में पीछे छोड़ देगा दिल्ली का इंदिरा गांधी एयरपोर्ट

अब यात्रियों को एयरपोर्ट पर चेकिंग के दौरान हैंडबैग से बाहर निकालने होंगे मोबाइल, पेन और पर्स

10 दिन के बाद बयान से पलटे ट्रंप, कहा- उत्तर कोरिया से परमाणु खतरा कायम

अंतरराष्ट्रीय योग दिवसः पीएम मोदी ने देहरादून में 55 हजार लोगों के साथ किया योगासन, बोले- योग की वजह से भारत से जुड़ी दुनिया

पाकिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय सीमा से लेकर एलओसी तक तैनात किए बैट दस्ते

उपचुनावों के परिणामों के बाद बोले गृहमंत्री राजनाथसिंह, कहा- कुछ बड़ा पाने के लिए दो कदम पीछे हटना पड़ता है

2018-07-13_moditraump.jpg

अगले साल गणतंत्र दिवस परेड के लिए भारत ने अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप को मुख्य अतिथि बनने का न्योता दिया है. राष्ट्रपति ट्रंप को न्योता भेजे जाने की यह जानकारी हमारे सहयोगी 'टाइम्स ऑफ इंडिया' को सूत्रों से मिली है. अगर अमेरिकी राष्ट्रपति भारत का यह न्योता स्वीकार कर लेते हैं, तो विदेश नीति के स्तर पर पिछले कुछ सालों में नरेंद्र मोदी सरकार के लिए यह एक बड़ी कामयाबी होगी.

हालांकि भारत को अभी तक इस न्योते पर अमेरिका की अधिकारिक प्रतिक्रिया का इंतजार है. भारत सरकार ने अमेरिकी राष्ट्रपति को यह न्योता इस साल अप्रैल में भेजा था. ऐसे संकेत हैं कि ट्रंप प्रशासन भारत के इस न्योते पर सकारात्मक ढंग से विचार कर रहा है. भारत ने यह न्योता दोनों देशों के बीच कई राउंड की राजनयिक चर्चा होने के बाद भेजा है.

अगर डॉनल्ड ट्रंप भारत के इस न्योते को स्वीकार करते हैं, तो यह तय है कि इस यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच जो वादे होंगे, वह पहले हुई ओबामा यात्रा से भी ज्यादा नाटकीय होंगे. आपको बता दें साल 2015 में आयोजित हुई गणतंत्र दिवस परेड में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा मोदी सरकार के पहले मुख्य अतिथि बने थे.

इस समय करीब-करीब दुनिया के हर बड़े देश के लिए ट्रंप के साथ अपने रिश्ते सामान्य रखना किसी चुनौती से कम नहीं है. ट्रंप का गरम मिजाज और चिड़चिड़पना दुनिया के दूसरे नेताओं के लिए उनसे सामंजस्य बैठाने में चुनौतीपूर्ण रहा है. ऐसे में अगर भारत कुछ अलग हट कर सोच रहा है, तो यह अपवाद ही होगा. 

भारत और अमेरिका के संबंधों में कुछ चुनौतियां रही हैं. जैसे- दोनों देशों में व्यापार शुल्क, ईरान के साथ भारत के ऊर्जा संबंधित और ऐतिहासिक संबंधों पर अमेरिका को ऐतराज और भारत का रूस के साथ S-400 मिसाइल का रक्षा समझौता अमेरिका की चिंताओं में खास रहा है. हालांकि ऐसे ही कुछ मामले ओबामा के कार्यकाल में भी थे. मोदी सरकार को उम्मीद है कि अमेरिका भारत को ईरान से संबंध रखने के बावजूद कुछ छूट दे सकता है. ट्रंप प्रशासन उन देशों को प्रतिबंध की धमकी दी है, जो देश ईरान से कच्चे तेल का आयात कर रहे हैं.



loading...