ताज़ा खबर

ईरान ने लांघी यूरेनियम की सीमा, डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- परमाणु समझौते का उल्लंघन कर वह आग से खेल रहा है

अमेरिका: महाभियोग जांच की प्राथामिक रिपोर्ट में राष्ट्रपित डोनाल्ड ट्रंप दोषी करार, राष्ट्रहित से किया समझौता

अमेरिका: क्या जाएगी डोनाल्ड ट्रंप की कुर्सी?, महाभियोग के पक्ष में 232 और विरोध में पड़े 196 वोट

कश्मीर मुद्दे पर भारत-पाक के बीच बढ़ते तनाव को लेकर ट्रंप ने फिर दोहराया मध्यस्थता का राग

राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कहा- ईरान पर प्रतिबंध लगाकर डोनाल्ड ट्रंप ने मानवता के खिलाफ अपराध किया

पीएम मोदी के इस काम की मुरीद हुईं अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की स्पीकर, कहा- गांधी के मूल्यों को बरकरार रखा

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की प्रक्रिया शुरू, जानें क्या है मामला

2019-07-02_Trump.jpg

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सोमवार को ईरान को संवर्धित यूरेनियम की सीमा पार नहीं करने की चेतावनी दी. उन्होंने कहा कि यदि वह अपने परमाणु कार्यक्रम के तहत संवर्धित (एनरिच्ड) यूरेनियम की सीमा को पार करता है तो उसे गंभीर परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. परमाणु समझौते का उल्लंघन कर ईरान आग से खेल रहा है. ईरान ने कहा था कि हम अपना यूरेनियम भंडार बढ़ाएंगे.

इससे पहले सोमवार को अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) के महानिदेशक युकिया अमानो ने ईरान के 300 किलो की संवर्धित यूरेनियम की सीमा पार करने की पुष्टि की थी. इससे पहले भी व्हाइट हाउस ने कहा था कि जब तक ईरान परमाणु समझौते का उल्लंघन करेगा, अमेरिका दबाव बनाता रहेगा.

ब्रिटेन ने ईरान को आगे से किसी भी ऐसे कदम से बचने के लिए कहा है. यूएन ने कहा कि ईरान को समझौते के तहत अपने वादे पर कायम रहना चाहिए. अमेरिकी राष्ट्रपति ने संवर्धित यूरेनियम की सीमा को बढ़ाने के ईरान के फैसले को लेकर फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से चर्चा की. इजराइल ने भी अमेरिका से ईरान पर प्रतिबंध लगाने के लिए कहा है.

ओमान की खाड़ी में कुछ दिनों पहले होरमुज जलडमरूमध्य (स्ट्रेट) के पास दो तेल टैंकरों अल्टेयर और कोकुका करेजियस में विस्फोट और ईरान द्वारा अमेरिका के जासूसी ड्रोन को मार गिराने के बाद से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है. ईरान ने 8 मई को अंतरराष्ट्रीय परमाणु समझौते के कुछ प्रावधानों से अलग होने की घोषणा की थी, जिसके बाद से इस समझौते को संशय की स्थिति बनी हुई है.

2015 में ईरान ने अमेरिका, चीन, रूस, जर्मनी, फ्रांस और ब्रिटेन के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे. समझौते के तहत ईरान ने उस पर लगे आर्थिक प्रतिबंधों को हटाने के बदले अपने परमाणु कार्यक्रम को सीमित करने पर सहमति जताई थी.



loading...