यूपी: ब्लैक डे मनाने के बाद अब पोस्ट में लिखा, न करेंगे ट्रैफिक कंट्रोल, क्राइम होने नहीं करेंगे कार्यवाही

2018-10-08_UPPolice.jpeg

काली पट्टी बाँधकर ब्लैक डे मनाने वाली यूपी पुलिस में असंतोष अभी समाप्त नहीं हुआ है. अब सोशल मीडिया पर एक पोस्ट और पत्र वायरल हुआ है, जिसमें बगावत की बात कही गई है. इसमें कहा गया है कि 10 अक्टूबर को यूपी को कोई भी पुलिस कर्मी ड्यूटी नहीं करेगा. पुलिस विभाग ने इसे संज्ञान में लिया है. एडीजी राजीव कृष्णा का कहना है कि कुछ पुलिसकर्मी हैं जो निजी स्वार्थ के लिए ऐसा करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन लगभग सभी अनुशासन में हैं. वहीँ, इस पोस्ट के बाद विवेक तिवारी हत्याकांड के आरोपी प्रशांत चौधरी की पत्नी राखी चौधरी ने पुलिसकर्मियों से धैर्य रखने की अपील की है.

पत्र में लिखा गया है कि मेरा पूरे पुलिस विभाग से कहना है कि अभी नहीं तो कभी नहीं. लंबी बातों वालों से कुछ नहीं होगा. अब कुछ करना होगा. आप सबको 10 अक्टूबर को पूरे प्रदेश की पुलिस एक साथ काली पट्टी बाँधकर विरोध दर्ज कराते हुए ड्यूटी करेगी. आप चौराहे पर रहेंगे, पर ट्रैफिक कंट्रोल नहीं करना है. आप थाने पर रहेंगे, लेकिन कहीं भी क्राइम होने पर नहीं जाना है. दोस्तों सिर्फ एक दिन करके देखो अपनी ताकत का अंदाजा खुद लगाकर देखो. आज से ही सभी भाई काली पट्टी की व्यवस्था कर लें. मेरी बात उचित लगे तो सभी ग्रुप में फॉरवर्ड करना शुरू करिए. आप अंदाजा नहीं लगा सकते कि अगर आपने ये कर लिया तो आने वाले कल आपका नहीं हर जगह मार खाते रहो. ये पोस्ट यूपी के कई हिस्सों में वायरल हो रहा है.

वहीँ, इस मामले में एडीजी राजीव कृष्णा ने कहा कि अधिकतर पुलिस कर्मी अनुशासन में हैं. सिपाहियों को रिफ्रेशर कोर्स कराया जा रहा है. विरोध जैसी बात कोई नहीं कर रहा है. जो कुछ कर रहे हैं, उनका अपना राजनैतिक स्वार्थ है. अगर ऐसा करते हुए कोई अनुशासनहीनता करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. वहीँ, विवेक हत्याकांड में जेल गए आरोपी सिपाही की पत्नी राखी ने भी सोशल मीडिया पर वीडियो डाल पुलिसकर्मियों से कहा है कि उन्हें कानून पर भरोसा, सभी धैर्य रखें.

आपको बता दें कि पुलिस विभाग में ये असंतोष विवेक तिवारी की हत्या के बाद फैला. लखनऊ में तैनात रहे सिपाही प्रशांत चौधरी ने कार नहीं रोकने पर विवेक तिवारी को गोली मार दी थी. प्रशांत का कहना है कि उन्होंने कार को रोकने का इशारा किया, लेकिन विवेक तिवारी ने भागने के लिए तीन बार उनकी बाइक को टक्कर मारी. बचाव के लिए उन्होंने पिस्टल निकाली, लेकिन गोली चल गई. इससे पहले प्रशांत ने ये भी कहा था कि उनका इरादा विवेक को मारने का नहीं था.

घटना के बाद मचे बवाल के बाद प्रशांत और साथ रहे संदीप कुमार को अरेस्ट कर जेल भेज दिया गया. दोनों को बर्खास्त कर दिया गया है. यूपी पुलिस के सिपाही इसी बात से नाराज हैं कि प्रशांत ने जब अपनी जान बचाने के लिए ऐसा किया था तो एकतरफा कार्रवाई क्यों की जा रही है. कार चढ़ाए जाने से प्रशांत की जान भी जा सकती थी. इसी को लेकर दो दिन पहले ही पुलिसकर्मी काली पट्टी बाँध ब्लैक डे मना चुके हैं. इसे लेकर विभाग द्वारा 6 को निलंबित कर दिया गया था.



loading...