यूपी-बिहार के लोगों को धमकाने के आरोप पर अल्पेश ठाकोर ने कहा- अगर मैंने धमकी दी होगी तो जेल जाऊंगा

2018-10-09_AlpeshThakor.jpeg

गुजरात में उत्तर भारतीयों पर हमले और पलायन के पीछे कांग्रेस के विधायक अल्पेश ठाकोर का नाम सामने आने के बाद उन्होंने सफाई दी है. अल्पेश ने कहा कि गुजरात में कही पर एक इंसिडेंट हुआ और मैं इसकी निंदा करता हूं. अगर मैंने किसी को धमकी दी है और मैं गलत साबित हुआ तो खुद ही जेल चला जाउंगा. गुजरात हर किसी का है. यह जितना आपका है उतना ही हमारा है. आरोप है कि गुजरात के साबरकांठा जिले में 28 सितंबर को 14 महीने की एक बच्ची के साथ कथित रेप की घटना के बाद अल्पेश ने हिन्दी भाषी लोगों को धमकी दी थी.

कांग्रेस के विधायक और बिहार कांग्रेस प्रभारी अल्पेश ठाकोर का एक वीडियो सामने आया था. इसमें वह कह रहे हैं कि बाहरी लोगों की वजह से राज्य में हिंसा बढ़ रही है. उनकी वजह से यहां के गुजरातियों को रोजगार नहीं मिल रहा है. क्या यह राज्य सच में गुजरातियों का है. इस वीडियो के सामने आने के बाद कांग्रेस के लिए शर्मनाक स्थिति हो गई और इस मुद्दे पर उसे अपने कदम पीछे खींचने पड़े. यहां तक कि अल्पेश के मित्र पाटीदार नेता हार्दिक पटेल और दलित नेता जिग्नेश मेवानी तक को यह कहना पड़ा कि अगर इस हिंसा के पीछे अल्पेश का हाथ है तो उन्हें गिरफ्तार किया जाना चाहिए.

वहीं गुजरात में हिंदीभाषी प्रवासियों पर हमले के बाद उनके पलायन को देखते हुए राज्य के औद्योगिक इलाकों में अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं. इस मामले में सियासी आरोप-प्रत्यारोप के बीच राज्य सरकार ने सोमवार को उनसे लौटने की अपील की. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने लोगों से हिंसा में शामिल नहीं होने की अपील की. वहीं राज्य सरकार ने प्रवासियों को सुरक्षा का आश्वासन देते हुए कहा कि हमलों के संबंध में 431 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और 56 प्राथमिकियां दर्ज की गयी हैं. रुपाणी ने दावा किया कि पिछले 48 घंटों में कोई अप्रिय घटना नहीं हुयी है. उन्होंने कहा कि पुलिस ने स्थिति पर काबू पा लिया है.

उन्होंने कहा कि पुलिस के गहन प्रयासों के कारण स्थिति नियंत्रण में है औैर पिछले 48 घंटों में कोई अप्रिय घटना नहीं हुयी है. सीएम ने कहा कि हम कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं और परेशानी की स्थिति में लोग पुलिस को बुला सकते हैं. हम उन्हें सुरक्षा मुहैया कराएंगे. उत्तर प्रदेश और बिहार के मुख्यमंत्रियों- क्रमश: योगी आदित्यनाथ और नीतीश कुमार और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने रुपाणी से बात की और हमलों को लेकर चिंता जताई. पुलिस ने बताया कि 28 सितंबर को साबरकांठा जिले में 14 महीने की एक बच्ची के साथ कथित बलात्कार के बाद छह जिलों में हिंदीभाषी लोगों पर हमलों की कई घटनाएं हुई हैं. उत्तर भारतीय विकास परिषद के अध्यक्ष महेश सिंह कुशवाह ने दावा किया कि मौजूदा स्थिति को देखते हुए उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार के करीब 20 हजार लोग गुजरात से बाहर चले गए हैं.



loading...