ताज़ा खबर

लोकसभा में नितिन गडकरी ने कहा- सरकार के पास फंड नहीं, अच्छी सड़कें चाहिए तो टोल तो देना पड़ेगा

अरुण जेटली के निधन से दुखी है बॉलीवुड, लता मंगेशकर, सनी देओल, रितेश देशमुख, करण जौहर समेत सेलेब्स ने दी श्रद्धांजलि

IND Vs WI 1st Test Day 2: एंटिगा टेस्ट में बैकफुट पर वेस्टइंडीज, इशांत ने झटके 5 विकेट, बुमराह ने बनाया ये खास रिकॉर्ड

Janmashtami 2019: देशभर में जन्माष्टमी की धूम, मंदिरों में लगा भक्तों का तांता, जानिए पूजा विधि और महत्व

सिद्धार्थ मल्होत्रा और रितेश देशमुख की फिल्म 'मरजावां' का फर्स्ट लुक हुआ रिलीज

पाकिस्तान के लिए बुरी खबर, आतंकी फंडिंग रोकने में नाकाम होने पर FATF ने किया ब्लैकलिस्ट

नीति आयोग उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा- 70 साल के बुरे दौर से गुजर रही भारतीय अर्थव्यवस्था

2019-07-16_NitinGadkari.jpeg

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी का कहना है कि जनता को अच्छी सड़कें चाहिए तो टोल चुकाना पड़ेगा. गडकरी ने मंगलवार को लोकसभा में एक सवाल के जवाब में कहा कि टोल जिंदगी भर बंद नहीं हो सकता. कम ज्यादा हो सकता है. टोल का जन्मदाता मैं हूं. अगर आपको अच्छी सेवाएं चाहिए तो कीमत चुकानी पड़ेगी. सरकार के पास पर्याप्त फंड नहीं है.

गडकरी अपने मंत्रालय के लिए अनुदान की मांग पर चर्चा का जवाब दे रहे थे. उन्होंने कहा कि पिछले 5 साल में सरकार ने 40 हजार किलोमीटर हाइवे का निर्माण किया. कुछ सदस्यों ने देश के अलग-अलग हिस्सों में टोल से जुटाई रकम पर चिंता जताई थी. गडकरी ने कहा कि उन इलाकों में टोल लिया गया जहां लोगों की देने की क्षमता है. इस राशि का इस्तेमाल ग्रामीण और पहाड़ी इलाकों में सड़कें बनाने के लिए किया जा रहा है.

गडकरी ने यह भी बताया कि सड़क परिवहन मंत्रालय दिल्ली से मुंबई के बीच ग्रीन एक्सप्रेस-वे की योजना पर काम कर रहा है. इसके जरिए दिल्ली से मुंबई की दूरी 12 घंटे में तय करना संभव हो पाएगा. यह राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र के अति पिछड़े और आदिवासी इलाकों से होकर गुजरेगा. इससे जमीन अधिग्रहण के 16 हजार करोड़ रुपए भी बचेंगे.

सड़क निर्माण में जमीन अधिग्रहण को प्रमुख समस्या बताते हुए गडकरी ने कहा कि राज्य सरकारों को इसका समाधान तलाशना चाहिए. 80% तक जमीन अधिग्रहण के बिना हम प्रोजेक्ट को आगे नहीं बढ़ाते. इस सिद्धांत का सख्ती से पालन किया जा रहा है. मंत्री ने कहा कि पश्चिम बंगाल और बिहार में अधिग्रहण की रफ्तार बहुत धीमी है.

गडकरी का कहना है कि जब 2014 में उन्होंने मंत्रालय संभाला था तब 3.85 लाख करोड़ के 403 प्रोजेक्ट बंद पड़े थे. मोदी सरकार ने इन पर काम शुरू कर बैंकों के 3 लाख करोड़ रुपए के एनपीए बचाए. अब 90% प्रोजेक्ट तेजी से आगे बढ़ रहे हैं.


 



loading...