ताज़ा खबर

आधार से पहचान की पड़ताल का बदलेगा तरीका, 16 अंक वाले वर्चुअल आईडी आएंगे अमल में

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल बोले- रोहित वेमुला की मां का बयान पढ़ने के बाद बेहद चिंतित हूं, कांग्रेस को किया बेनकाब, राहुल मांगे माफी

पीएम मोदी ने नमो ऐप पर किसानों को संबोधित किया, कहा- 2022 तक दोगुनी आय करना हमारी सरकार का लक्ष्य

भारत ने कहा- पाकिस्तान से बातचीत को लेकर तीसरे पक्ष का दखल मंजूर नहीं, चीनी राजदूत ने दिया था प्रस्ताव

जम्मू-कश्मीर: महबूबा मुफ्ती ने दिया इस्तीफा, राज्यपाल से मिले उमर अब्दुल्ला, कहा- न समर्थन लेंगे और न ही देंगे, जल्द चुनाव हों

सारदा घोटाला मामला: पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की पत्नी नलिनि चिदंबरम को ED ने फिर भेजा समन

अरुण जेटली ने विपक्ष को दिया जवाब, बताया कहाँ हैं नौकरियां, कहा- भारत सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था

2018-01-10_Virtual-ID.jpg

आधार धारकों की निजता और सुरक्षा को और मजबूत बनाने के लिए यूआईडीएआई आधार धारकों के लिए वर्चुलअल आईडी लाने जा रहा है। यूआईडीएआई आधार कार्ड धारकों को वर्चुलअल आईडी जारी करेगा। यूआईडीएआई के मुताबिक इससे आधार कार्ड धारकों को किसी भी सत्यापन के लिए अपने आधार नंबर देन की जरूरत नहीं पड़ेगी। सत्यापन के लिए उन्हें सिर्फ अपने वर्चुअल नंबर का इस्तेमाल करना पड़ेगा। 

यूआईडीएआई की इस पहल का असर ये होगा कि इससे वो एजेंसी बाहर हो जाएंगी जो आधार नंबर स्टोरेज करती हैं। सभी एजेंसी को नई व्यवस्था को 1 जून 2018 तक लागू करना होगा। 

कुछ दिनों पहले ही एक अंग्रेजी अखबार ने अपनी खबर में आधार डाटा को बेचे जाने का दावा किया है। अखबार ने व्हॉट्सऐप पर एक गुमनाम विक्रेता से एक सेवा खरीदने का दावा किया है। यह विक्रेता मजह 500 रुपये अदा करने पर देश में अब तक बने 1 अरब आधार कार्ड की जानकारी को निर्बाध रूप से मुहैया कराता है। इस जानकारी में आधार कार्ड बनवाने वाले का नाम, पता, पिन नंबर, फोटो, फोन नंबर और ईमेल आईडी शामिल हैं।

हालांकि केंद्र सरकार और आधार कार्ड जारी करने वाली सरकारी एजेंसी यूआईडीएआई ने दावा किया कि आधार का डाटा पूरी तरह सुरक्षित है और इसे कोई लीक नहीं कर सकता, ना ही इसे चुराया जा सकता है। 



loading...