तेलंगाना : विधान परिषद के अध्यक्ष को माइक फेंककर घायल करने वाले 2 कांग्रेसी विधायक अयोग्य घोषित

2018-03-13_mla96.jpg

मंगलवार को तेलंगाना विधानसभा अध्यक्ष ने राज्यपाल ई.एस.एल नरसिम्हन के विधानसभा के संयुक्त सत्र को संबोधित करने के दौरान कांग्रेस के 2 वरिष्ठ विधायकों को उनके अमर्यादित व्यवहार की वजह से अयोग्य घोषित कर दिया. 

जानकारी के मुताबिक , विधानसभा अध्यक्ष मधुसूदन चारी ने कोमाटिरेड्डी वेंकट रेड्डी और एस.ए.संपत कुमार को अयोग्य घोषित कर दिया है. बता दें कि राज्यपाल जब सोमवार को संयुक्त सत्र को संबोधित कर रहे थे तो वेंकट रेड्डी को राज्यपाल पर हेडफोन फेंकते देखा गया. यह हेडफोन परिषद के स्पीकर स्वामी गौड़ को जाकर लगा, जिससे उनकी आंख में चोट लग गई. वहीं, सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) और मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एमआईएम) ने कांग्रेस सदस्यों के खिलाफ इस कार्रवाई का समर्थन किया है जबकि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता जी.किशन रेड्डी ने के.जना रेड्डी जैसे कुछ सदस्यों के निष्कासन का विरोध किया है.

विधायी मामलों के मंत्री टी.हरिश राव ने अनुच्छेद 194 के क्लॉज तीन के प्रावधानों के तहत दोनों कांग्रेस सदस्यों को अयोग्य ठहराए जाने के खिलाफ प्रस्ताव पेश किया. मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव और एमआईएम नेता अकबरुद्दीन ओवैसी ने सदन में कांग्रेस सदस्यों के इस व्यवहार की पुरजोर निंदा की. भाजपा के नेता जी.किशन रेड्डी का कहना है कि स्पीकर को 11 सदस्यों के निष्कासन से पहले सभी दलों से चर्चा करनी चाहिए थी. विधायी परिषद में कांग्रेस के छह सदस्य शब्बीर अली, कोमाटिरेड्डी, राजगोपाल रेड्डी, अखुला ललिता, दामोदर रेड्डी, पी.सुधाकर रेड्डी और संतोष मौजूदा सत्र से निष्कासित हैं.



loading...