ताज़ा खबर

अमेरिका ने दूसरे देशों के छात्रों के लिए पॉलिसी सख्त की, नियम तोड़ने के अगले दिन से गैरकानूनी माना जाएगा प्रवास

Pulwama Terror Attack: परवेज मुशर्रफ ने माना हमले में जेईएम का हाथ, लेकिन पाकिस्तान पर हमला करना नरेंद्र मोदी की बड़ी भूल होगी

बांग्लादेश की राजधानी ढाका में 5 इमारतों में लगी भीषण आग, 70 की मौत, राहत और बचाव कार्य जारी

पुलवामा आतंकी हमले को डोनाल्ड ट्रंप ने बताया ‘भयावह’, कहा अच्छा होगा अगर भारत-पाक साथ आ जाएं

पुलवामा हमला: भारत के एक्शन से पहले घबराया पाकिस्तान, UN के महासचिव को पत्र लिखकर हस्तक्षेप की लगाई गुहार

अमेरिका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने लगाई इमरजेंसी, मैक्सिको बोर्डर पर बनाई जाएगी दीवार

अमेरिका-मैक्सिको सीमा पर दीवार बनाने पर अड़े डोनाल्ड ट्रंप, जल्द करेंगे आपातकाल की घोषणा

2018-08-11_Policy-tough-on-International-students.jpg

अमेरिका ने दूसरे देशों के छात्रों के लिए पॉलिसी सख्त कर दी है। स्टूडेंट स्टेटस का उल्लंघन करने के अगले ही दिन से छात्र और उनके परिजनों की अमेरिका में मौजूदगी गैरकानूनी मानी जाएगी, भले ही वीजा अवधि खत्म नहीं हुई हो। नए प्रावधान 9 अगस्त से लागू हो गए।

इससे पहले नियम यह था कि जिस दिन दोष साबित होता या फिर आप्रवासी मामलों का जज आदेश जारी करता था, उस दिन से अमेरिका में रहना अवैध माना जाता था। नई नीति के मुताबिक 180 दिन तक अनाधिकृत रूप से रहने वालों की अमेरिका में फिर से एंट्री पर 10 साल की रोक लगाई जा सकती है। कोई छात्र संस्थान में पूरा समय नहीं देगा तो यह स्टूडेंट स्टेटस के नियमों का उल्लंघन माना जाएगा। पढ़ाई पूरी होने पर मिलने वाले ग्रेस पीरियड से ज्यादा अमेरिका में रुकने या अनाधिकृत रूप से नौकरी करने पर भी कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है। 

अमेरिका में चीन के बाद सबसे ज्यादा संख्या भारतीय छात्रों की है। 2017 की ओपन डोर रिपोर्ट के मुताबिक भारत के 1.86 लाख छात्र अमेरिका में पढ़ाई कर रहे हैं। अमेरिका के आंतरिक सुरक्षा विभाग की रिपोर्ट में बुधवार को सामने आया कि पिछले साल 1,27,435 भारतीय छात्र अमेरिका पहुंचे। इनमें से 4,400 छात्र वीजा अवधि खत्म होने के बाद भी वहां रुके रहे। कुल 21 हजार से ज्यादा भारतीय नागरिक तय समय पूरा होने के बाद भी अमेरिका में रुके।



loading...