टीपू जयंती के मद्देनजर बेंगलुरु में कड़ी सुरक्षा, बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात, धारा 144 लागू

2017-11-10_tipu-jayanti.jpeg

कर्नाटक के कोडागू में टीपू सुल्तान की जयंती के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था को बनाए रखने के लिए प्रशासन ने धारा 144 लाग दी गई है। इसके अलावा मदिकेरी में प्रदर्शनकारियों ने कर्नाटक राज्य सड़क परिवहन निगम की बसों पर पत्थरबाजी की है। कर्नाटक की कांग्रेस सरकार ने भारी विरोध प्रदर्शन के बावजूद मैसूर के शासक टीपू सुल्तान की जयंती बनाने का फैसला किया है। बंगलूरू में टीपू जयंती के आयोजन को सफल बनाने के लिए सरकार ने शहर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की है। 

समारोह के दौरान कोई अप्रिय घटना को अंजाम न दिया जा सके इसलिए शहर में 11 हजार पुलिसकर्मियों की तैनाती की जाएगी साथ ही शराब बिक्री पर भी पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। पुलिस ने निर्देश जारी करते हुए कहा है कि सिर्फ सरकार द्वारा आयोजित कार्यक्रम को छोड़कर किसी को भी टीपू का जुलूस निकालने की इजाजत नहीं होगी।

बंगलूरू के पुलिस आयुक्त टी सुनील कुमार ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो हम धारा 144 भी लगा सकते हैं और जो भी कानून तोड़ेगा उसके खिलाफ खख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि कर्नाटक राज्य रिजर्व पुलिस (केएसआरपी) की 30 टुकड़ियों और 25 सशस्त्र दलों के अलावा शहर पुलिस के पुलिसकर्मियों और अधिकारियों को तैनात किया जायेगा। 

आपको बता दें कि बीजेपी, कुछ दक्षिमपंथी संगठनों और कोडावा समुदाय के लोग टीपू सुल्तान की जयंती बनाने का विरोध कर रहे हैं। इन सभी का कहना है कि टीपू एक धार्मिक ‘‘कट्टरवादी’’ था। टीपू ने जबरन लोगों का धर्म परिवर्तन कर इस्लाम कबूल करवाने के लिए मजबूर कराया था।



loading...