आज तड़के सुबह आई दिल्ली में आंधी, गिरे पेड़, हरियाणा-राजस्थान-यूपी में तूफान-बारिश की चेतावनी

राजस्थान में सभी विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी AAP, जयपुर के रामलीला मैदान से 28 अक्टूबर से चुनाव-प्रचार शुरू करेंगे केजरीवाल

दिल्ली के हयात होटल में पिस्टल दिखाकर गुंडागर्दी करने वाले आरोपी आशीष पांडेय ने पटियाला हाउस कोर्ट में किया सरेंडर

दिल्ली की जहरीली आबोहवा में सांस लेना हुआ मुश्किल, सूचकांक 300 के पार

रेप का केस सीबीआई को सौंपे जाने पर सुप्रीमकोर्ट पहुंचा दाती महाराज

दिल्ली के 5 स्टार होटल हयात में बसपा नेता के बेटे की गुंडागर्दी, पिस्टल दिखाते हुए दी धमकी

दिल्ली की आबोहवा हुई जहरीली, गुरुग्राम और गाजियाबाद में भी हालत खराब, बैन हो सकते हैं डीजल जनरेटर

2018-05-16_duststromindelhi.jpg

दिल्ली में बुधवार की सुबह हल्की बारिश हुई और धूलभरी आंधी चली, जिससे कई पेड़ गिर गए. ये देखते हुए मौसम विभाग ने चेताया है कि आज पश्चिमी उत्तर प्रदेश, राजस्थान और हरियाणा के 6 जिलों में हल्की बारिश और तूफान आ सकता है. 

उत्तर भारत में आए आंधी-तूफान और दक्षिण भारत में बढ़ते तापमान के कारण इस बार मानसून 4-5 दिन पहले आ सकता है. आपको बता दें जींद, रोहतक, पानीपत, अलवर, बागपत, मेरठ और अलीगढ़ के लिए सतर्क होने की चेतावनी जारी की गई है. इससे पहले शनिवार शाम को आए तूफान ने देश के उत्तर से लेकर दक्षिणी और पूर्व से लेकर पश्चिमी हिस्सों में तबाही मचाई थी. 70 मौतों में सबसे ज्यादा 51 मौतें उत्तर प्रदेश में हुईं थीं. 

खबर हो कि 3 मई को उत्तर प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना, उत्तराखंड और पंजाब में आंधी-तूफान ने अपना कहर बरपाया था. तब 134 लोगों की मौत हो गई थी, वहीं 400 से ज्यादा घायल हुए थे. तब अकेले उत्तर प्रदेश में 80 लोगों की मौत हुई थी. 

इसके बाद 9 मई को उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में तेज आंधी आई थी, जिसके कारण 18 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 27 घायल हुए थे.

एग्रोमीट्रियोलॉजिस्ट डॉ. रामचंद्र के मुताबिक कि डस्ट स्टॉर्म हर साल होने वाली प्रक्रिया है. इस साल अरब सागर से आने वाली गर्म हवा राजस्थान से पूर्व की ओर तेज रफ्तार से बहने लगी, उसी समय उत्तर-पश्चिम में वेस्टर्न डिस्टर्बेंस मौजूद होने से आंधी तूफान का असर बढ़ गया. 

उत्तर भारत में हवा का दबाव 1000 से 1002 हेप्टा पास्कल (हवा के दाब की यूनिट) रहा, जिस कारण चक्रवात को बढ़ावा मिला. दक्षिण भारत में भी लू जैसी स्थिति हो गई. इसका मतलब है की मानसून इस साल भारत में जल्द दस्तक देने की तैयारी में है. ऐसे ही हालात रहे तो मानसून 25 मई को केरल में पहुंच सकता है. आमतौर पर केरल में 1 जून तक मानसून आता है.



loading...