ये है राक्षसों का मंदिर, ये शर्त पूरी किए बिना नहीं मिलती एंट्री

2017-09-29_dharmiksthal54.jpg

शहर में एक ऐसा अनूठा मंदिर है, जहां भगवान राम के साथ रावण, कुंभकर्ण और मेघनाथ की भी पूजा होती है. इस मंदिर में प्रवेश की एक शर्त है. मंदिर में जाने के लिए किसी भी व्यक्ति को पहले 108 बार राम का नाम लिखना पड़ता है. यह अनोखा मंदिर बंगाली चौराहे के पास वैभव नगर में है. यहां भगवान के साथ-साथ राक्षसों की मूर्तियां भी हैं और इनकी पूजा भी होती है.

मंदिर के संस्थापक, संचालक और सेवक जय सियाराम का कहना है कि राम से जुड़ा हर पात्र पूजनीय है. इसीलिए यहां भगवान के साथ राक्षसों की मूर्तियां भी स्थापित की गई हैं. वे कहते हैं कि महापंडित और ज्ञानी होने के नाते रावण हमेशा पूजनीय रहेगा.

इस मंदिर में आपको तभी प्रवेश मिलेगा जब आप 108 बार राम नाम लिखने की शर्त मानें. मुख्यद्वार सहित पूरे परिसर में प्रवेश संबंधी शर्त के चेतावनी बोर्ड बड़े-बड़े अक्षरों में लगे हैं. आप नेता हों या अभिनेता या सामान्य इंसान किसी को भी नियम से छूट नहीं है. निर्धारित फॉर्मेट में लाल पेन से श्रीराम नाम लिखना होता है. पुजारी खुद भी हनुमान प्रतिमा के सामने बैठकर लगातार रामचरित मानस पाठ करते हैं. मंदिर में भगवान राम के अलावा दशानन, कुंभकर्ण, विभीषण, मेघनाथ, मंदोदरी, कैकेयी, मंथरा, शूर्पणखा की भी प्रतिमाएं हैं.



loading...