जैश-ए-मोहम्मद के संस्थापक मसूद अजहर को हुई जानलेवा बीमारी, 2 साल से बिस्तर पर पड़ा है

अमेरिका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने लगाई इमरजेंसी, मैक्सिको बोर्डर पर बनाई जाएगी दीवार

अमेरिका-मैक्सिको सीमा पर दीवार बनाने पर अड़े डोनाल्ड ट्रंप, जल्द करेंगे आपातकाल की घोषणा

Pulwama Terror Attack: अमेरिका की पाक को चेतावनी, आतंकवाद को पनाह देना बंद करे, पाकिस्तान ने गंभीर चिंता का विषय बताया

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट का आदेश, ‘‘घृणा, चरमपंथ और आतंकवाद’’ फैलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करे सरकार

डोनाल्ड ट्रंप ने 'स्टेट ऑफ यूनियन' में अमेरिका-मैक्सिको सीमा पर दीवार बनाने का किया वादा, किम जोंग से फिर करेंगे मुलाकात

क्रिप्टोकरेंसी कंपनी के CEO की मौत से निवेशकों के 190 मिलियन डॉलर हुए लॉक, किसी को नहीं पता पासवर्ड

2018-10-09_masoodazhar.jpg

आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के संस्थापक मसूद अजहर की तबीयत काफी खराब है. जिसके चलते वह बेड रेस्ट पर है. यह जानकारी भारतीय खूफिया एजेंसी के अधिकारियों ने दी है. उसने अपने संगठन से संबंधित जिम्मेदारियों को अपने छोटे भाईयों रौफ असगर और अथर इब्राहिम के बीच बांट दिया है.

अजहर कई बीमारियों से जूझ रहा है. जिसके कारण उसकी रीढ़ की हड्डी और गुर्दे प्रभावित हुए हैं. अधिकारियों ने इससे संबंधित और जानकारी नहीं दी. खुफिया अधिकारी ने पहचान न बताने की शर्त पर बताया कि ये माना जा रहा है कि अजहर की रीढ़ की हड्डी और गुर्दे का इलाज रावलपिंडी के कंबाइंड मिलिटरी हॉस्पिटल में किया गया है. जिसके चलते वह करीब डेढ़ साल तक के लिए बिस्तर पर ही रहेगा.

भारतीय राजनयिकों का कहना है कि अजहर की बीमारी की पुष्टि तो नहीं की जा सकती. लेकिन आतंकवादी नेता जिसका नाम संयुक्त राष्ट्र द्वारा वैश्विक आतंकवादी के रूप में नामित किया गया था, वह बीमार है.

यह भारत के लिए एक राहत की बात है. एक विशेषज्ञ का कहना है अजहर को वैश्विक आतंकी वाली बात पर चीन हमेशा से ही रोड़े अटकाता रहा है. अब भारत को इसके लिए चीन से रियायत की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि आतंकी तो खुद कई बीमारियों से पीड़ित हो चुका है.

भारतीय खूफिया अधिकारी साल 2001 में संसद पर हुए हमले, 2005 में अयोध्या पर हुए हमले और 2016 को पठानकोट एयरबेस पर हुए हमले के लिए अजहर को ही जिम्मेदार मानते हैं. यह हमले काफी हद तक सफल भी हुए. इनका उद्देष्य भारत में सांप्रदायिकता को खतरा पहुंचाना और पाकिस्तान के साथ भारत की शत्रुता बढ़ाना था. वहीं अगर उसके भाई रौफ असगर की बात करें तो वह भी भारत के खिलाफ आंतकवादी अभियान चलाता है. मुख्य रूप से वह जम्मू और कश्मीर को निशाना बनाता है.



loading...