तलाक मामला: तेजप्रताप यादव ने ने ट्वीट कर बयां किया दिल का हाल, लिखा- ‘टूटे से फिर ना जुटे, जुटे गांठ परि जाये.'

बिहार के गया में प्रेमी जोड़े ने जान देकर चुकाई प्यार की कीमत, पुलिस ने दोषियों को किया गिरफ्तार

मुजफ्फरपुर शेल्टर केस में नागेशवर राव पर अवमानना के आरोप में सुप्रीम कोर्ट ने लगाया 1 लाख का जुर्माना, दिनभर कोर्टरूम के कमरे रहेंगे बैठे

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: बिहार सरकार को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, एम नागेश्वर राव को अवमानना का नोटिस, दिल्ली ट्रांसफर किया केस

लोकसभा चुनाव से पहले बिहार में नीतीश कुमार को तो गुजरात में राहुल गांधी को बड़ा झटका, दल बदलेंगे नेता

बिहार में अपराधियों के हौसले बुलंद, पूर्व सांसद मोहम्मद शाहबुद्दीन के भतीजे की गोली मारकर हत्या

आईआरसीटीसी घोटाला मामला: लालू यादव एंड फॅमिली को 1-1 लाख रुपए के निजी मुचलके पर मिली जमानत, 11 फरवरी को होगी अगली सुनवाई

2018-11-23_TejpratapYadav.jpg

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव के द्वारा दायर तलाक की अर्जी के बाद से पूरा लालू परिवार उन्हें मनाने में जुटा हुआ है. तलाक की अर्जी दायर करने के बाद से वह लगातार घर से बाहर हैं. कभी वाराणसी तो कभी मथुरा तो कभी दिल्ली में होने की खबर लगातार आती रही है.

ट्विटर पर सदैव सक्रिय रहने वाले तेजप्रताप ने दस दिनों के बाद एक ट्वीट किया. ट्वीट से यह प्रतीत हो रहा है कि लालू परिवार में अभी भी सबकुछ ठीक नहीं हो पाया है. तेजप्रताप ने एक दोहा ट्वीट करते हुए लिखा, '...टूटे से फिर ना जुटे, जुटे गांठ परि जाये.' दोहे से तो यही प्रतीत हो रहा है कि सबकुछ ठीक नहीं है. अगर दोहे के भावार्थ निकालें तो लगता है तेजप्रताप यही कहना चाह रहे हैं कि अगर उनका रिश्ता ऐश्वर्या राय के साथ रहता भी है तो उसमें गांठ रहेगी.

आपको बता दें कि तेजप्रताप यादव तलाक की अर्जी देने के बाद लालू प्रसाद से मिलने रांची गए थे. उसके बाद से अभी तक घर नहीं लौटे हैं. इन दिनों वह मथुरा-वृंदावन में हैं. कुछ दिन पहले उनकी मां और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने संकेत दिए थे कि वह घर वापस आ सकते हैं.

इससे पहले तेजप्रताप जब हरिद्वार में थे तो उन्होंने कहा था कि जब तक पत्नी से तलाक के उनके फैसले का परिवार समर्थन नहीं करता है तब तक वह घर नहीं लौटेंगे. तेज प्रताप ने कहा था, 'हमारे मतभेद में अब समझौते की कोई गुंजाइश नहीं है. मैंने अपने माता पिता को विवाह संपन्न होने से पहले इस बारे में अवगत करवा दिया था. लेकिन उस वक्त मेरी किसी ने नहीं सुनी और अब भी मेरी कोई नहीं सुन रहा है. जब तक वे मुझसे सहमत नहीं होते हैं तब तक मैं घर कैसे वापस आ सकता हूं.'



loading...