अब कोलकाता में तोड़ी गई श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मूर्ति, पोस्‍टर पर लिखा- लेनिन की मूर्ति तोड़ने का बदला

2018-03-07_syama-prasad-statue-vandalised-kolkata.jpg

पश्चिम बंगाल में भारतीय जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त करने की कोशिश की गई है. कोलकाता के केवराटोला मोहासोसन में कुछ लोगों ने मूर्ति पर पथराव किया. साथ ही उनकी मूर्ति पर कालिख भी पोत दी गई. जानकारी के मुताबिक, बुधवार सुबह करीब 8 बजे टॉलीगंज में स्थित श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मूर्ति को तोड़ दिया गया. बता दें कि जनसंघ ही बाद में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) बनी थी.

जाधवपुर यूनिवर्सिटी के 6 छात्रों पर मूर्ति तोड़ने का आरोप है, जिसके बाद इन्‍हें गिरफ्तार कर लिया गया. गिरफ्तार किए गए छात्रों में 5 छात्र, जबकि एक छात्रा है. बताया जा रहा है कि मूर्ति तोड़ने के बाद वहां लगाए गए पोस्‍टर में लिखा गया कि यह लेनिन की मूर्ति तोड़ने का बदला है.

बीजेपी की पश्चिम बंगाल इकाई ने इस घटना की निंदा की है. पार्टी ने कहा है कि हम गुनहगारों पर कड़े एक्शन की मांग कर रहे हैं. मंगलवार को ही त्रिपुरा में लेनिन की मूर्ति गिराने की खबर सामने आई थी. इसके बाद रात को तमिलनाडु के वेल्लोर जिले में समाज सुधारक एवं द्रविड़ आंदोलन के संस्थापक ई वी रामासामी ‘पेरियार’ की प्रतिमा कथित रूप से क्षतिग्रस्त कर दी गई.

वहीं, तमिलनाडु की घटना पर पुलिस ने दावा किया कि इसे नशे में रहे दो व्यक्तियों ने अंजाम दिया. यह घटना राजनीतिक रूप से महत्व रखती है क्योंकि बीजेपी के एक नेता एच राजा ने संकेत दिया था कि तर्कवादीनेता की प्रतिमा का अगला नंबर हो सकता है जिसे गिराया जा सकता है. इससे पहले लेनिन की प्रतिमा को भी त्रिपुरा में संदिग्ध बीजेपी कार्यकर्ताओं ने गिरा दिया था.

हालांकि, एच राजा ने बाद में माफी मांग ली. पेरियार की प्रतिमा क्षतिग्रस्त किए जाने के मामले में दो लोगों की गिरफ्तारी हुई. जिले के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है जिनकी पहचान मुथुरमन और फ्रांसिस के तौर पर हुई है. दोनों ने नशे की हालत में तिरुपत्तूर में प्रतिमा क्षतिग्रस्त कर दी.

पुलिस ने बताया कि दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है. पुलिस ने बताया कि संदेह है कि मुथुरमन बीजेपी का कार्यकर्ता है, वहीं माना जाता है कि फ्रांसिस सीपीआई का कार्यकर्ता है. इससे पहले दिन में भाजपा नेता एच राजा ने तमिल में की गई एक फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘लेनिन कौन है तथा लेनिन और भारत के बीच क्या संबंध है? भारत और कम्युनिस्टों के बीच क्या संबंध है? आज त्रिपुरा में लेनिन की प्रतिमा हटायी गई और कल तमिलनाडु में ई वी रामासामी की प्रतिमा होगी.’ पोस्ट बाद में हटा दी गयी थी.



loading...