ताज़ा खबर

राजस्थान: गहलोत सरकार के मंत्रिमंडल में 17 नए चेहरों को मिली जगह, 13 कैबिनेट और 10 राज्यमंत्री ने ली शपथ

राजस्थान में बीजेपी को लगा झटका, 7 बार विधायक रहे दिग्गज नेता देवी सिंह भाटी ने पार्टी से दिया इस्तीफा

राजस्थान के श्रीगंगानगर के पास भारतीय सीमा में घुसे पाक ड्रोन को सेना ने किया ढेर

राजस्थान के बीकानेर में क्रैश हुआ वायुसेना का लड़ाकू विमान मिग-21, पायलट सुरक्षित, जांच के लिए कोर्ट और इंक्वायरी के आदेश

राजस्थान के टोंक में पीएम मोदी ने कहा- इस बार सबका हिसाब होगा, और हिसाब पूरा होगा

जयपुर सेंट्रल जेल में पाकिस्तानी कैदी की पीट-पीट कर हत्या, बैरक में बंद अन्य कैदियों से हुआ था झगड़ा

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा- मोदी सरकार जवानों की सहादत को व्यर्थ नहीं जाने देगी

2018-12-24_CabinetMinisters.jpg

राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के मंत्रिमंडल का गठन हो गया है. राजभवन में राज्यपाल कल्याण सिंह ने मंत्रियों को शपथ दिलाई. कुल 23 विधायकों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई गई जिनमें 13 कैबिनेट और 10 राज्यमंत्री हैं. इनमें 22 विधायक कांग्रेस के हैं जबकि राष्ट्रीय लोकदल के एक विधायक को भी मंत्री पद दिया गया. 

अशोक गहलोत के मंत्रिमंडल में 17 नए चेहरों को शामिल किया गया है यानि दो तिहाई से ज्यादा नए विधायकों को जगह दी गई है. सियासी जानकारों के मुताबिक राजस्थान के नवगठित मंत्रिमंडल में अशोक गहलोत के समर्थकों का पलड़ा भारी है. विधायकों की संख्या के मुताबिक 60 फीसदी अशोक गहलोत समर्थक हैं तो 40 फीसदी पायलट समर्थक माने जाते हैं. कहा जा सकता है कि एक बार फिर अशोक गहलोत सचिन पायलट पर बीस साबित हुए हैं.

ये 13 विधायक बने कैबिनेट मंत्री- बीडी कल्ला, शांति धारीवाल, परसादी लाल मीणा, मास्टर भंवरलाल मेघवाल, लालचंद कटारिया, डॉ रघु शर्मा, प्रमोद जैन भाया, विश्वेंद्र सिंह, हरीश चौधरी, रमेश चंद्र मीणा, उदयलाल आंजना, प्रताप सिंह खाचरियावास, सालेह मोहम्मद.

ये हैं 10 राज्यमंत्री- गोविंद सिंह डोटासरा, श्रीमति ममता भूपेश, अर्जुन बामनिया, भंवरसिंह भाटी, सुखराम विश्नोई, अशोक चांदणा, टीकाराम जूली, भजनलाल जाटव, राजेंद्र यादव, सुभाष गर्ग.

आपको बता दें कि विधानसभा चुनाव में शुरू से बढ़त बनाई कांग्रेस को 99 सीटें मिली. वह सबसे बड़ी पार्टी तो साबित हुई, लेकिन बहुमत की दहलीज पर आकर एक सीट से चूक गई. लेकिन सरकार बनाने में सफल हुई. अशोक गहलोत तीसरी बार राजस्थान के सीएम बने हैं. उन्होंने दो दिन के अंदर ही किसानों का कर्जा माफी की घोषणा कर दी, जो कि उनकी पार्टी का सबसे बड़ा चुनावी वादा था.



loading...