ताज़ा खबर

SC में अनुच्‍छेद 35A की वैधता पर सुनवाई आज, अलगाववादियों ने कश्‍मीर बंद का ऐलान किया

जम्मू-कश्मीर: लद्दाख में बर्फीले तूफान की चपेट में आए 10 पर्यटक फंसे, पुलिस और सेना का रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

जम्मू-कश्मीर: अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तानी गोलाबारी में BSF का असिस्टेंट कमांडेंट शहीद

सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा- कश्मीर में आतंकियों के जनाजे पर रोक लगाने का फैसला सही साबित हुआ

2010 IAS टॉपर शाह फैसल ने दिया इस्तीफा, इस पार्टी के टिकट पर लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सेना की पेट्रोलिंग टीम पर हमला, एनकाउंटर में 1 आतंकी ढेर

पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने फिर दिया विवादित बयान, कहा- बुरहान वानी की मौत पर हुई हिंसा में मारे गए सभी लोग शहीद थे

2018-08-06_SCArticle35A.jpg

जम्‍मू और कश्‍मीर को विशेष दर्ज देने वाले अनुच्‍छेद 35ए की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में आज यानी सोमवार को सुनवाई शुरू हो सकती है. जम्मू-कश्मीर के नागरिकों को स्थाई निवासी की परिभाषा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 35ए के मामले में होने वाली इस सुनवाई के विरोध में अलगाववादियों ने दो दिन के कश्‍मीर बंद का आह्वान किया है.

हालांकि यह भी माना जा रहा है कि सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में होने वाली यह सुनवाई टल भी सकती है. क्योंकि जम्मू-कश्मीर सरकार ने सुनवाई टालने की मांग को लेकर अर्जी दायर की है. राज्य सरकार ने सुनवाई टालने के पीछे प्रदेश में होने वाले पंचायत और स्थानीय चुनाव का हवाला दिया है. हालांकि सीजेआई दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन जजों की पीठ में सोमवार के लिए मामला सूचीबद्ध है. लेकिन राज्य सरकार की मांग पर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट सुनवाई टाल सकता है.

अनुच्‍छेद 35ए की संवैधानिक वैधता को याचिकाओं के जरिए चुनौती दी गई है. एनजीओ 'वी द सिटीजन' ने मुख्‍य याचिका 2014 में दायर की थी. इस याचिका में कहा गया है कि इस अनुच्छेद के चलते जम्मू कश्मीर के बाहर के भारतीय नागरिकों को राज्य में संपत्ति खरीदने का अधिकार नहीं है. वहीं कोर्ट में दायर याचिका पर अलगाववादी नेताओं ने एक सुर में कहा था कि अगर कोर्ट राज्य के लोगों के हितों के खिलाफ कोई फैसला देता है, तो जनता आंदोलन के लिए तैयार हो जाए.

यह कानून 14 मई 1954 को राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद की ओर से लागू किया गया था. आर्टिकल 35ए जम्मू और कश्मीर के संविधान में शामिल है, जिसके मुताबिक राज्य में रहने वाले नागरिकों को कई विशेषाधिकार दिए गए हैं. साथ ही राज्य सरकार के पास भी यह अधिकार है कि आजादी के वक्त किसी शरणार्थी को वह राज्य में सहूलियतें दे या नहीं. आर्टिकल के अनुसार, राज्य से बाहर रहने वाले लोग वहां जमीन नहीं खरीद सकते, न ही हमेशा के लिए बस सकते हैं. इतना ही नहीं बाहर के लोग राज्य सरकार की स्कीमों का लाभ नहीं उठा सकते और ना ही सरकार के लिए नौकरी कर सकते हैं. कश्मीर में रहने वाली लड़की अगर किसी बाहर के शख्स से शादी कर लेती है तो उससे राज्य की ओर से मिले अधिकार छीन लिए जाते हैं. इतना ही नहीं उसके बच्चे भी हक की लड़ाई नहीं लड़ सकते.



loading...