ताज़ा खबर

सुप्रीम कोर्ट में आज से होगी धारा 377 पर सुनवाई, समलैंगिकता अपराध है या नहीं

CBI vs CBI: सुप्रीमकोर्ट की सख्ती पर आलोक वर्मा ने सीलबंद लिफाफे में दाखिल किया जवाब, कल होगी सुनवाई

गुजरात दंगा: पीएम मोदी के खिलाफ जकिया जाफरी की याचिका पर अब 26 नवंबर को सुनवाई करेगा सुप्रीमकोर्ट

CBI विवाद: आलोक वर्मा से सुप्रीमकोर्ट ने जल्द से जल्द जवाब दाखिल करने को बोला, मंगलवार को निर्धारित सुनवाई नहीं टलेगी

सरकार बनाम RBI: मुंबई में आरबीआई बोर्ड की मीटिंग जारी, राहुल गांधी बोले- उम्मीद है मोदी को उनकी जगह दिखायेंगे उर्जित

अमृतसर ब्लास्ट: सेना प्रमुख पर दिए बयान को लेकर 'AAP' नेता फुल्का का यूटर्न, कहा- इसके लिए मुझे खेद है

1971 में पाकिस्तानी सैनिकों को खदेड़ने वाले महावीर चक्र विजेता ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चांदपुरी नहीं रहे

2018-07-10_homosexual.jpg

सुप्रीम कोर्ट में नवगठित पांच सदस्यीय संविधान पीठ समलैंगिक यौन संबंधों के मुद्दे सहित चार अहम मामलों पर आज से सुनवाई शुरू करेगी. उच्चतम न्यायालय ने 2013 में समलैंगिकों के बीच यौन संबंधों को अपराध घोषित कर दिया था. दिल्ली उच्च न्यायालय ने 2009 में अपने एक फैसले में कहा था कि आपसी सहमति से समलैंगिकों के बीच बने यौन संबंध अपराध की श्रेणी में नहीं होंगे. लेकिन उच्चतम न्यायालय ने इस फैसले को दरकिनार करते हुए समलैंगिक यौन संबंधों को आईपीसी की धारा 377 के तहत अवैध घोषित कर दिया था. उच्चतम न्यायालय के इस फैसले के बाद पुनर्विचार याचिकाएं दायर की गईं और जब उन्हें भी खारिज कर दिया गया तो प्रभावित पक्षों ने सुधारात्मक याचिका (क्यूरेटिव पिटीशन) दायर की ताकि मूल फैसले का फिर से परीक्षण हो.

सुधारात्मक याचिकाओं के लंबित रहने के दौरान मांग की गई कि खुली अदालत में इस मामले पर सुनवाई की मंजूरी दी जानी चाहिए और उच्चतम न्यायालय जब इस पर राजी हुआ तो कई रिट याचिकाएं दायर कर मांग की गई की धारा 377 (अप्राकृतिक अपराध) को अपराध की श्रेणी से बाहर किया जाए. नवगठित पांच सदस्यीय संविधान पीठ की अध्यक्षता प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा करेंगे और न्यायमूर्ति आर एफ नरीमन, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति इंदु मल्होत्रा इसके सदस्य होंगे. यह सूचना उच्चतम न्यायालय की वेबसाइट पर डाली गई है.

धारा 377 को दी गई चुनौती के अलावा संविधान पीठ केरल के सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 साल की उम्र की महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध से जुड़े विवादित मुद्दे की भी सुनवाई करेगी. पीठ भारतीय दंड संहिता की धारा 497 की संवैधानिक वैधता को चुनौती देने वाली अर्जी पर भी सुनवाई करेगी. इस धारा के तहत व्यभिचार के लिए सिर्फ पुरुषों को दंडित किया जाता है और अपराध में शामिल महिलाओं को पीड़िता माना जाता है.

संविधान पीठ उस याचिका पर भी सुनवाई करेगी जिसमें यह फैसला करना है कि किसी सांसद या विधायक के खिलाफ किसी आपराधिक मामले में आरोप-पत्र दायर करने के बाद उन्हें अयोग्य घोषित किया जाना चाहिए या दोषी करार दिए जाने के बाद ही अयोग्य करार दिया जाना चाहिए.



loading...