ताज़ा खबर

दहेज प्रताड़ना मामले में अब पुलिस सीधे कर सकती है गिरफ्तारी, SC ने 498-A में किया बदलाव

सुप्रीम कोर्ट ने यूनिटेक के एमडी संजय चंद्रा और अजय चंद्रा की जमानत याचिका की खारिज

सुप्रीम कोर्ट के CJI ने कहा- SC/ST वर्ग के लिए जज बनने के मापदंड कम किए जाएं

प्रियंका वाड्रा की राजनीति में एंट्री, पूर्वी उत्‍तर प्रदेश की महासचिव बनाई गईं, बीजेपी ने कहा- यह राहुल गांधी के असफल होने की वजह

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के मौके पर पीएम मोदी ने लाल किले में संग्रहालय का किया उद्घाटन

NSA अजित डोभाल के बेटे विवेक डोभाल की याचिका पर कोर्ट ने लिया संज्ञान, 30 जनवरी को होगी सुनवाई

ईवीएम हैकिंग को लेकर कांग्रेस पर बीजेपी ने साधा निशाना, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पूछा, प्रेस कांफ्रेंस में कपिल सिब्बल क्या कर रहे थे

2018-09-14_SupremeCourt.jpg

सुप्रीम कोर्ट ने दहेज की खातिर प्रताड़ना दिए जाने से संबंधित अपने जुलाई 2017 के फैसले में शुक्रवार को सुधार किया. भारतीय दंड संहिता की धारा 498-ए से संबंधित इस प्रकरण में कोर्ट ने कहा कि दहेज प्रताड़ना के मामलों में अग्रिम जमानत के प्रावधान को संरक्षण प्रदान किया गया है. इस तरह शीर्ष अदालत ने दहेज से जुड़े मामले में गिरफ्तारी हो या न हो, यह तय करने की जिम्मेदारी पुलिस प्रशासन को दे दी है. शीर्ष अदालत ने कहा कि इसको लेकर सभी राज्यों के पुलिस महानिदेशक पुलिस अफसरों के बीच जागरूकता फैलाएं. प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ की पीठ ने दो सदस्यीय पीठ के फैसले में सुधार करते हुये अपने निर्णय में कहा कि अदालतों के लिए दंड विधि में व्याप्त किसी कमी को दूर करने की सांविधानिक तरीके से कोई गुंजाइश नहीं है.

शीर्ष अदालत के दो न्यायाधीशों की पीठ ने 27 जुलाई, 2017 को अपने फैसले में कहा था कि दहेज प्रताड़ना की शिकायत पर विचार के लिए समिति गठित की जाए. इस पीठ ने धारा 498-ए के बढ़ते दुरूपयोग पर चिंता व्यक्त् करते हुए अनेक निर्देश दिये थे. इनमें यह भी शामिल था कि आरोपों की पुष्टि के बगैर सामान्यतया कोई गिरफ्तारी नहीं की जानी चाहिए क्योंकि निर्दोष व्यक्तियों के मानवाधिकारों के उल्लंघन को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है.

पीठ ने टिप्पणी की थी कि ऐसी अनेक शिकायतें सही नहीं थीं और अनावश्यक गिरफ्तारियां दाम्पत्य जीवन में समझौते की गुंजाइश खत्म कर सकती हैं. न्यायालय की इस व्यवस्था के खिलाफ अहमदनगर की महिला वकीलों के गैर सरकारी संगठन ‘न्यायाधार’ ने याचिका दायर की थी. इसमें दो न्यायाधीशों की पीठ के फैसले पर फिर से विचार करने का अनुरोध करते हुये कहा गया था कि इस न्यायिक व्यवस्था ने ससुराल में विवाहित महिला से क्रूरता के अपराध से निबटने संबंधी दहेज निरोधक कानून की सख्ती को काफी कम कर दिया है.

न्यायाधीशों की तीन सदस्यीय पीठ ने इस याचिका पर 23 अप्रैल को सुनवाई पूरी करते हुये कहा था, महिलाओं के लिये लैंगिक न्याय होना चाहिए क्योंकि जहां एक ओर दहेज का विवाह पर बुरा असर पड़ता है वहीं दूसरी ओर व्यक्ति के जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता का अधिकार भी है.



loading...