सुप्रीम कोर्ट ने NRC की आखिरी लिस्ट जारी करने के लिए 1 महीने का समय बढ़ाया, केंद्र और असम सरकार की यह मांग ठुकराई

केंद्र और असम सरकार ने NRC के फाइनल ड्राफ्ट के लिए सुप्रीम कोर्ट से मांगा समय, 23 को होगी अगली सुनवाई

असम सरकार ने जारी की NRC की नई लिस्ट, 1 लाख से ज्यादा लोगों ने नाम गायब

भागलपुर के बाद असम के सिल्चर में पीएम मोदी ने कहा- ये चायवाला आपके जीवन को बेहतर बनाने के लिए कोई कमी नहीं छोड़ेगा

असम में राहुल गांधी का वादा, हमारी सरकार बनने पर युवाओं को रोजगार शुरू करने के लिए किसी परमिशन की जरूरत नहीं होगी

असम में पीएम मोदी का कांग्रेस पर वार, कहा- चाय वालों का दर्द सिर्फ एक चायवाला ही समझ सकता है

असम 2008 बम विस्फोट मामले में एनडीएफबी प्रमुख रंजन दैमारी सहित 10 को उम्रकैद की सजा, 88 लोगों की गई थी जान

2019-07-23_NRC.jpg

सुप्रीम कोर्ट ने अहम फैसला लेते हुए असम में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजंस (एनआरसी) प्रकाशित करने की तारीख 31 जुलाई से बढ़ाकर 31 अगस्त तक कर दी है. अदालत ने अंतिम लिस्ट तैयार करने के लिए एनआरसी कोऑर्डिनेटर को 31 अगस्त तक का समय दिया है.

राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर केंद्र और असम सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की थी. केंद्र और राज्य सरकार ने मांग की थी कि एनआरसी डाटा के 20 फीसदी ड्राफ्ट की दोबारा जांच की जाए. याचिका में सरकार ने कहा था कि ऐसा पता चला है कि ड्राफ्ट से कई भारतीय नागरिक बाहर हो गए हैं और अवैध बांग्लादेशियों को इसमें शामिल किया गया है.

दोनों सरकारों ने एनआरसी की डेडलाइन 31 जुलाई से बढ़ाने का आग्रह किया था. सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा था कि इतनी जल्दी एनआरसी संभव नहीं है. सुप्रीम कोर्ट ने अंतिम एनआरसी के प्रकाशन के लिए 31 जुलाई की डेडलाइन रखी थी. बीते साल 28 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने ड्राफ्ट से बाहर रखे गए 10 फीसदी लोगों का दोबारा सत्यापन कराने का आदेश दिया था.

असम सरकार के अनुसार राज्य के कई मूल निवासियों ने एनआरसी की सूची में अपना नाम नहीं पाया, क्योंकि उनके पास दस्तावेजों की कमी थी. न ही इन लोगों ने एनआरसी में खुद को शामिल करने के लिए कोई आवेदन किया. केवल इतना ही नहीं इनमें से कई लोगों को विदेशी भी माना जा रहा है, जो यहां काम कर रहे हैं. वहीं कई विदेशी होने के बावजूद एनआरसी अधिकारियों के रूप में काम कर रहे हैं. ऐसे में माना जा रहा है कि रिश्वत लेकर एनआरसी अधिकारी विदेशियों का नाम इसमें शामिल कर रहे हैं.

बांग्लादेश की सीमा से लगे जिलों में ये सबसे ज्यादा देखा जा रहा है. यहां के अधिकतर मूल निवासियों को सूची से बाहर कर दिया गया है. बीते साल अगस्त माह में एनआरसी का अंतिम ड्राफ्ट प्रकाशित हुआ था जिससे राज्य के 40 लाख लोग बाहर हो गए थे. इसके बाद एनआरसी कोऑर्डिनेटर ऑफिस को 36.2 लाख आवेदन नामों के शामिल करने के लिए और दो लाख आवेदन बाहर करने के लिए मिले थे.



loading...