सुप्रीमकोर्ट को जल्द मिलेंगे 4 नए जज, कॉलेजियम की बैठक में इन नामों पर बनी सहमति

पीएम मोदी को पत्र लिखकर कांग्रेस नेता मल्लिकार्जु्न खड़गे ने की CVC रिपोर्ट को सार्वजानिक करने की मांग

एनडीए सरकार का किसान राहत पैकेज पर काम शुरु, मिलेगा 3 लाख रुपए तक का बिना ब्याज, बिना शर्त के लोन

सपा-बसपा के गठबंधन पर रविशंकर प्रसाद ने कहा- अपने अस्तित्व को बचाने के लिए साथ आए बूआ और बबूआ

बीजेपी के राष्‍ट्रीय महाधिवेशन में बोले पीएम मोदी, 'सारे विरोधी मजबूर सरकार बनाने में जुटे हैं, लेकिन देश मजबूत सरकार चाहता है

सीबीआई विवाद पर बोले पूर्व चीफ जस्टिस आरएम लोढ़ा, तोते को आजाद नहीं करेंगे तो वह खुले आसमान में कैसे उड़ेगा?

अब सवर्णों को पेट्रोल पंप और कुकिंग गैस एजेंसी आवंटन में मिलेगा 10 फीसदी आरक्षण, सरकार ने पारित किया कानून

2018-10-31_SupremeCourtJudge.jpg

सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने बुधवार को हाईकोर्ट के चार चीफ जस्टिस को पदोन्नत करके सुप्रीम कोर्ट का जज बनाने की सिफारिश की. इनमें मध्यप्रदेश हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस हेमंत गुप्ता, गुजरात हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस आर सुभाष रेड्डी, पटना हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस एमआर शाह और त्रिपुरा हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस अजय रस्तोगी के नाम शामिल हैं.

कॉलेजियम के प्रस्ताव के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट में जजों के 31 पद हैं. फिलहाल 24 जज काम कर रहे हैं, 7 पद खाली हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने 22 अक्टूबर को निचली अदालतों में जजों के खाली पदों को लेकर नाराजगी जाहिर की थी. शीर्ष अदालत ने इस पर सभी 24 हाईकोर्ट और राज्यों से जवाब मांगा था. निचली अदालतों में 5000 से ज्यादा पद खाली हैं.

संसद में चर्चा के लिए मार्च में तैयार की गई एक रिपोर्ट के मुताबिक- भारत में जज-आबादी का अनुपात 19.46 प्रति 10 लाख है. यानी 10 लाख की आबादी पर सिर्फ 19 जज हैं.



loading...