सुप्रीम कोर्ट का मराठा आरक्षण पर रोक लगाने से इनकार, महाराष्ट्र सरकार से मांगा जवाब

मुंबई: बांद्रा में MTNL की बिल्डिंग में लगी भीषण आग, दमकल की 20 गाड़ियां मौजूद, छत पर फंसे लोगों को निकालने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

महाराष्ट्र के पुणे में बड़ा दर्दनाक हादसा, ट्रक और कार की भीषण टक्कर में 9 की मौत

मुबंई पुलिस ने अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के भतीजे रिजवान कासकर को हवाई अड्डे से किया गिरफ्तार, देश से भागने की तैयारी में था

महाराष्ट्र: विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस से NCP ने मांगी बराबर सीटें, कहा- आम चुनाव में हमने अच्छा प्रदर्शन किया

मुंबई के डोंगरी में चार मंजिला इमारत गिरी, 2 की मौत, कई लोगों को बाहर निकाला, बचाव कार्य जारी

महाराष्ट्र: मुंबई में बारिश से कई जगहों पर लगा ट्रैफिक जाम, हाईटाइड को लेकर चेतावनी जारी, कई उड़ानें ठप

2019-07-12_Supremecourt.jpg

सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षा एवं सरकारी नौकरियों में मराठा समुदाय को आरक्षण संबंधी प्रावधान को बरकरार रखने के बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर शुक्रवार को महाराष्ट्र सरकार से जवाब मांगा.

उच्च न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने मराठा आरक्षण कानून की संवैधानिक वैधता को बरकरार रखने के बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश पर रोक नहीं लगाई, लेकिन यह स्पष्ट कर दिया कि मराठा समुदाय को 2014 से पूर्व प्रभावी तौर पर आरक्षण देने वाले बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश के पहलू को लागू नहीं किया जाएगा.

पीठ दो याचिकाओं पर सुनवाई कर रही थी, जिनमें से एक जे. लक्ष्मण राव पाटिल की थी, जिसमें उन्होंने मराठा समुदाय को आरक्षण देने संबंधी कानून को बरकरार रखने के बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती दी थी.
 



loading...