सुप्रीम कोर्ट का मराठा आरक्षण पर रोक लगाने से इनकार, महाराष्ट्र सरकार से मांगा जवाब

महाराष्ट्र: शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की सरकार बनने से पहले केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने कही ये बड़ी बात

बीजेपी-शिवसेना विवाद पर बोले आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, कहा- झगड़े से हमेशा दोनों पक्षों की ही हानि होती है

महाराष्ट्र: शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा- सरकार बनाने की जिम्मेदारी हमारी नहीं थी, भाजपा छोड़कर भागी

शिवसेना ने ‘सामना’ के जरिए बीजेपी पर साधा निशाना, कहा- महाराष्ट्र के नए समीकरण से कुछ लोगों के पेट में दर्द

महाराष्ट्र: गठबंधन सरकार का रास्ता साफ, शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के नेता आज राज्यपाल से करेंगे मुलाकात

महाराष्ट्र: बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल बोले- हमारी पार्टी के बिना कोई सरकार नहीं बन सकती है

2019-07-12_Supremecourt.jpg

सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षा एवं सरकारी नौकरियों में मराठा समुदाय को आरक्षण संबंधी प्रावधान को बरकरार रखने के बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर शुक्रवार को महाराष्ट्र सरकार से जवाब मांगा.

उच्च न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने मराठा आरक्षण कानून की संवैधानिक वैधता को बरकरार रखने के बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश पर रोक नहीं लगाई, लेकिन यह स्पष्ट कर दिया कि मराठा समुदाय को 2014 से पूर्व प्रभावी तौर पर आरक्षण देने वाले बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश के पहलू को लागू नहीं किया जाएगा.

पीठ दो याचिकाओं पर सुनवाई कर रही थी, जिनमें से एक जे. लक्ष्मण राव पाटिल की थी, जिसमें उन्होंने मराठा समुदाय को आरक्षण देने संबंधी कानून को बरकरार रखने के बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती दी थी.
 



loading...