अब बीटेक के बाद सीधे PHD करेंगे छात्र, जाने कैसे

2016-08-22_indianstudent1014.jpg

भारत सरकार इंजीनियरिंग के छात्रों को शोध के लिए प्रोत्साहित करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम उठाने जा रही है. इसके लिए सरकार ‘प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप’ योजना लागू करने पर विचार कर रही है. शोध कार्य को बेहतर बनाने की दिशा में सरकार ने यह कदम उठाया है.

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक, इंजीनियरिंग के प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को शोध के लिए प्रोत्साहित करना बहुत ज़रूरी है’. जानकारी के मुताबिक, IIT मुंबई के पूर्व निदेशक और प्रमुख वैज्ञानिक अनिल काकोदकर की अध्यक्षता में एक कमिटी ने भी इस बात की सिफारिश की थी कि IIT और NIT के तीसरे साल के छात्रों को PHD कार्यक्रम में दाखिला देना चाहिए.

वहीं सरकार भी समझ रही है कि देश की उत्पादकता और स्तर को बेहतर बनाने के लिए यह ज़रूरी है कि शोध पर जोर दिया जाए. 

बता दें कि अगले एकेडमिक सेशन से मानव संसाधन विकास मंत्रालय 1,000 छात्रों को ‘प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप’ के लिए चुन सकता है. इस तरह IIT व NIT के छात्र बीटेक फाइनल इयर के बाद PHD के लिए रजिस्टर करा सकेंगे. 
 



loading...