करवाचौथ व्रत: इन टिप्स को अपनाकर सजायें व्रत की थाली

2017-10-07_karwachauththali.jpg

इस व्रत पर सजी थाली का विशेष महत्व होता है। शाम की पूजा के दौरान इसे अत्यंत महत्वपूर्ण माना जाता है। इस थाली को 'बाया' भी कहते हैं, जिसमें सिन्दूर, रोली, जल और सूखे मेवे होते हैं। करवाचौथ की थाली में मिट्टी के दीये, कई तरह की मिठाइयां सजाकर रखी जाती हैं।

घर में महिलाएं रंगोली भी बनाती हैं, क्योंकि यह अत्यंत शुभ माना जाता है। पूजा के दौरान महिलाएं आपस में थालियों की अदला-बदली भी करती हैं और अंत में यह थाली घर के सबसे बुजुर्ग व्यक्ति को दे दी जाती है, जो उन्हें ढेर सारा स्नेह और आर्शीवाद देते हैं।

क्या होती है थाली:

  •  एक साफ-सुथरी थाली लें।
  •  ईयर बड को तेल में डूबा कर थाली के ऊपर शुभ चिह्न बनाएं।
  •  इस पर चुटकी से सिन्दूर, हल्दी या रंगोली कलर डालकर थाली को अच्छी तरह हिलाएं।
  •  जितना रंग थाली के ऊपर टिके उसे रहने दें। बाकी बचे रंग को हटा दें।
  •  आपकी थाली पर एक अच्छा-सा 

    blank">डिजाइन उभरकर आ जाएगा। इसी सजी थाली के साथ आप करवा चौथ का व्रत रखें और पति की लम्बी आयु की कामना करें।

  • आप इस थाली पर हीरे, मोती, नग, और अन्य कई सजावटी सामग्री का इस्तेमाल कर सकती हैं। आखिर करवा चौथ का व्रत आपका है, थाली आपकी है तो फिर रचनात्मकता भी तो आपकी होना चाहिए।
  •  सुंदर फूलों और रंगों से भी थाली को सजा सकते हैं।
  •  आजकल मेहंदी की तरह कलर के कोन भी आने लगे हैं, बाजार से सुंदर चटख रंगों के कोन खरीदें और करवा के साथ थाली पर सुंदर आकृतियां सजाएं, फिर देखिए कि आपके चांद जैसे दिलबर भावुक होते हैं या नहीं।
  • कांच के विभिन्न आकार के टुकड़े लेकर भी थाली को आकर्षक बनाया जा सकता है।
  •  अलग-अलग रंगों की चमकती लेस भी करवा, चलनी और थाली पर चिपकाई जा सकती है।

 



loading...