देश में 4 जून को दस्तक देगा मानसून, सामान्य से कम बारिश होने की संभावना

2019-05-15_Monsoon.jpg

मौसम की निजी जानकारी देने वाली संस्था स्काईमेट के बाद अब बुधवार को मौसम विभाग ने भी मानसून का अनुमान बता दिया है. भारतीय मौसम विभाग ने कहा है कि इस बार मानसून केरल में 4 जून को दस्तक देगा.

मौसम विभाग ने कहा है कि इस बार मानसून के देरी से आने की संभावना है. यह चार जून को केरल में दस्तक देगा. हालांकि इसमें चार दिन की देरी और हो सकती है. आपको बता दें कि हर साल 1 जून को मानसून केरल में दस्तक देता है. लेकिन अब मौसम विभाग के अनुसार इसकी शुरुआत में ही पांच दिन की देरी हो रही है.

मौसम विभाग का कहना है कि दक्षिणपूर्व मानसून इस बार अंडमान-निकोबार भी थोड़ा देरी से पहुंचेगा. इसके यहां 18-19 मई तक पहुंचने की संभावना है. ऐसा इसलिए क्योंकि बंगाल की खाड़ी और अंडमान सागर में मानसूनी हवाएं देर से उठेंगी.

मानसून का सीधा तार देश की अर्थव्यवस्था से जुड़ा हुआ है. किसानों से लेकर सरकार के बजट पर मानसून अपना प्रभाव दिखाता है. अगर मानसून कमजोर रहता है तो फिर खाद्य उत्पादन कम होगा, जिससे किसानों की दशा और खराब होगी. वहीं इससे महंगाई भी बढ़ेगी, जिसका असर आम लोगों पर पड़ेगा. अनाज, फल-सब्जियों व अन्य खाने-पीने का उत्पादन कम होने से बाजार में इनकी कमी हो जाएगी, जिससे कीमतों पर भी असर पड़ेगा.

स्काईमेट ने मध्य भारत में सबसे कम 91% बारिश का अनुमान लगाया है. पूर्वोत्तर में 92%, दक्षिण में 95% और पश्चिमोत्तर में 96% बारिश हो सकती है. इस तरह देश के कई राज्य जैसे कि मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, बिहार, पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़ में सूखा पड़ सकता है.



loading...