गढ़चिरौली मुठभेड़: 2 दिन में 33 नक्सलियों का ख़ात्मा, एनकाउंटर के बाद नदी में तैरते मिले शव

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा- अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए कानून बनाए मोदी सरकार

मुंबई: छत्रपति शिवाजी एयरपोर्ट पर एयर इंडिया की एयर होस्टेस विमान से गिरी, हालत गंभीर

मुंबई: हाईकोर्ट ने सास-ससुर से गाली-गलौज करने वाली बहू को सुनाया घर से निकल जाने का आदेश

फैशन डिजाइनर सुनीता सिंह की हत्या के मामले में बेटे ने किया खुलासा, कहा- पिता की आत्मा से प्रभावित थी मां

महाराष्ट्र के नासिक में पत्नियों से परेशान होकर 100 पतियों ने उनके जिन्दा होने पर ही कराया पिंडदान, सरकार से की यह मांग

भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में सुप्रीमकोर्ट ने 19 सितंबर तक बढ़ाई आरोपी कार्यकर्ताओं की नजरबंदी

2018-04-24_encounter4.jpg

महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में बीते 2 दिन में कमांडो टीम और सुरक्षाबलों ने 33 नक्सलियों को ढेर कर दिया है. आज सुबह इस ऑपरेशन में कमांडो टीम ने टॉप कमांडर साईनाथ और सिनू को भी मार गिराया. ये नक्सलियों के खिलाफ सबसे बड़ा ऑपरेशन है जिसके बाद जवानों ने जमकर जश्न मनाया. मारे गए नक्सलियों के पास से भारी तादाद में हथियार और गोली-बारूद बरामद हुआ है. नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन अभी जारी है और जंगलों में तलाश जारी है.

जानकारी के मुताबिक , नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन की शुरुआत रविवार की सुबह हुई जब सी-60 कमांडो टीम ने नक्सलियों को घेरकर उनका एनकाउंटर शुरू किया. पहला एनकाउंटर बोरिया के जंगल में हुआ और रविवार को सी-60 कमांडो टीम ने 16 नक्सलियों को ढेर किया. इसके बाद जवानों ने सर्च ऑपरेशन शुरू किया. आज सुबह एनकाउंटर वाली जगह के पास इंद्रावती नदी में 11 शव तैरते मिले. सुरक्षाबलों का दावा है कि ये वही नक्सली हैं जिनका 2 दिन पहले रविवार को एनकाउंटर किया गया था.

एक ओर कमांडो टीम बोरिया जंगल में ऑपरेशन कर रही थी वहीं दूसरी ओर गढ़चिरौली के राजाराम खांडला में दूसरी टीम नक्सलियों का एक और एनकाउंटर कर रही थी. नक्सलियों के खिलाफ दूसरा एनकाउंटर राजाराम खांडला में हुआ. अहीरी तहसील में जवानों ने 6 नक्सलियों को मार गिराया. 33 नक्सलियों को जंगलों में जवानों ने घेर कर मार गिराया. जवानों ने ऐसी प्लानिंग की थी कि नक्सलियों को ना तो संभलने का मौका मिला और ना ही भागने का. बड़ी बात ये है कि ऑपरेशन में नक्सली नेता साईनाथ और सिनू को भी ढेर कर दिया गया. दोनों जवानों पर हुए कई हमलों में शामिल थे और जब इनका खात्मा हुआ तो जंगल में जीत का जश्न मनाया गया.



loading...