अमेरिका के कैलिफोर्निया में सिख युवक के साथ मारपीट, कहा- अपने देश वापस जाओ

अमेरिका ने दूसरे देशों के छात्रों के लिए पॉलिसी सख्त की, नियम तोड़ने के अगले दिन से गैरकानूनी माना जाएगा प्रवास

वॉशिंगटन के इंटरनेशनल एयरपोर्ट से अलास्का एयरलाइंस के कर्मचारी ने प्लेन चुरा लिया, आईलैंड पर क्रैश हुआ

इंडोनेशिया: एशियाई खेलों के दौरान ट्रैफिक की समस्या से निपटने के लिए 15 दिन बंद रहेंगे जकार्ता के 70 स्कूल

अमेरिका में भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास की हत्या के जुर्म में पूर्व नौसैनिक को 60 साल की सजा

अफगानिस्तान में तालिबानी आतंकी हमले में चार महिलाओं समेत 12 लोगों की मौत, मुठभेड़ जारी

पीएम की शपथ लेने से पहले करप्शन के आरोप पर जवाब देंगे इमरान खान

2018-08-06_AmerikaSikhPersonAttack.jpg

अमेरिका के कैलिफोर्निया में दो युवकों ने एक सिख पर हमला कर दिया. दोनों ने नस्लभेदी टिप्पणियां करते हुए कहा कि तुम्हारा यहां स्वागत नहीं है, अपने देश वापस जाओ. घटना पिछले हफ्ते की है. 

कैलिफोर्निया पुलिस ने हमले का शिकार हुए सिख की पहचान का खुलासा नहीं किया है. घटना के वक्त वह एक स्थानीय उम्मीदवार के लिए पोस्टर लगा रहा था. इसी दौरान काले रंग की टी-शर्ट पहने दो युवकों ने उस पर छिपकर हमला कर दिया और काफी देर उससे मारपीट करते रहे. स्टैनिलास काउंटी के शेरिफ एडम क्रिस्चियनसन ने कहा कि यह नफरत फैलाने वाली घटना है. हम हमलावरों को जल्द से जल्द ढूंढने की कोशिश में जुटे हैं.

एक फेसबुक पोस्ट में कहा गया कि हमलावरों ने सिख पर लोहे की रॉड से हमला किया, लेकिन पगड़ी के कारण उसे सिर पर कोई गंभीर चोट नहीं आई. इस पोस्ट में एक पिकअप ट्रक की फोटो भी शेयर की गई. ट्रक पर हमलावरों ने पेंट से ‘अपने देश वापस जाओ’ लिख दिया था. 

जिस जगह यह हमला हुआ वहां सिखों की बड़ी आबादी रहती है. अमेरिका का सबसे पुराना गुरुद्वारा 1912 में यहीं खुला था. अमेरिका में इस वक्त करीब पांच लाख सिख रहते हैं. यह भारत से बाहर दुनियाभर में बसे सिखों की कुल 25 लाख की आबादी का करीब 20% है.

पिछले महीने ही अमेरिका के पहले सिख अटॉर्नी जनरल गुरबीर ग्रेवाल पर एक रेडियो एफएम एनजे 101.5 पर नस्ली टिप्पणी की गई थी. कार्यक्रम के दौरान अटॉर्नी जनरल को कई बार ‘पगड़ीवाला व्यक्ति’ कहकर संबोधित किया था. इस मामले में रेडियो स्टेशन ने 2 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया था. पूरे अमेरिका में रेडियो स्टेशन की काफी आलोचना हुई थी.



loading...