मध्य प्रदेश के शिवपुरी में पिकनिक मनाने गये झरने में फंसे 45 लोग बचाए गये, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

राजस्थान में सीएम के नाम के ऐलान में देरी होने पर पायलट के समर्थकों ने हाइवे किया जाम, भोपाल में सिंधिया और कमलनाथ के समर्थकों का हंगामा

राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में मिली हार पर मंथन करने के लिए बीजेपी कार्यालय पहुंचे अमित शाह सहित कई दिग्गज

मध्यप्रदेश: कांग्रेस ने राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने के दावा किया पेश, राजस्थान में सीएम का फैसला आलाकमान पर छोड़ा फैसला

विधानसभा चुनाव परिणाम: राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्‍तीसगढ़ में मायावती को बड़ी सफलता, अखिलेश को बड़ा नुकसान

बसपा प्रमुख का ऐलान, राजस्थान, मध्यप्रदेश में कांग्रेस को समर्थन

Assembly Election Result: यहां देखें पांचों राज्यों के नतीजे, कहां किस पार्टी को मिली कितनी सीटें

2018-08-16_ShivpuriPicnic.jpg

मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले के सुल्तानगढ़ झरने में बुधवार शाम अचानक जलस्तर बढ़ने से फंसे सभी 45 लोग बचा लिए गए हैं. ये लोग स्वतंत्रता दिवस के मौके पर यहां पिकनिक मनाने के लिए आए थे. 5 लोगों को हेलिकॉप्टर की मदद से एयरलिफ्ट किया गया. बाकी 40 लोग रस्सी के सहारे बाहर निकाले गए. एसपी हिंगानकर ने बताया कि झरने में फंसे हुए लोगों का निकाल लिया गया है. वहीं, झरने में बहे लोगों की तलाश के लिए एनडीआरएफ की टीम ने गुरुवार सुबह से ऑपरेशन शुरू कर दिया.

पुलिस के मुताबिक, शाम करीब 4 बजे 45-55 लोग झरने में नहा रहे थे. इसी दौरान अचानक से झरने में जलस्तर बढ़ गया. लोग जान बचाने के लिए भागने लगे. इसी दौरान कई लोगों के झरने में बह जाने की सूचना है. जबकि 45 लोग झरने के बीच में फंस गए. इन सभी 45 लोगों को करीब 10 घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बचा लिया गया. अंधेरा होने के बाद रेस्क्यू ऑपरेशन को बंद कर दिया था.

टीआई अमित शर्मा ने बताया कि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि कितने लोग झरने में बहे हैं. शुरुआत में 10-11 लोगों के बहने की सूचना आई थी. लेकिन, अब तक 6 लोगों के परिजनों ने अपने बच्चों के लापता होने की सूचना दी है. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया कि बिना सूचना के बांध का पानी छोड़ा गया जिससे अचानक झरने का जलस्तर बढ़ा और यह हादसा हुआ.



loading...