मध्य प्रदेश के शिवपुरी में पिकनिक मनाने गये झरने में फंसे 45 लोग बचाए गये, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

मध्यप्रदेश के उज्जैन में बड़ा दर्दनाक हादसा, कार और वैन की टक्कर में 12 की मौत, पूर्व सीएम शिवराज ने जताया दुःख

मध्यप्रदेश: BSP विधायक रमाबाई ने कहा- अगर मुझे मंत्री नहीं बनाया तो कर्नाटक जैसा होगा कमलनाथ सरकार का हाल

बैकफुट पर कमलनाथ सरकार, मंत्री के बयान पर दी सफाई, कहा- बंद नहीं होगी ‘भावांतर योजना’

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने की पूर्व सीएम शिवराज सिंह से मुलाकात, MP में मच सकती है सियासी उथल-पुथल

भय्यू महाराज ने ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर की थी आत्महत्या, 3 लोग गिरफ्तार

कर्नाटक के बाद अब मध्यप्रदेश में कांग्रेस हुई सतर्क, बीजेपी नेता ने कहा- जब तक मंत्रियों के बंगले पुतेंगे कांग्रेस सरकार गिर जाएगी

2018-08-16_ShivpuriPicnic.jpg

मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले के सुल्तानगढ़ झरने में बुधवार शाम अचानक जलस्तर बढ़ने से फंसे सभी 45 लोग बचा लिए गए हैं. ये लोग स्वतंत्रता दिवस के मौके पर यहां पिकनिक मनाने के लिए आए थे. 5 लोगों को हेलिकॉप्टर की मदद से एयरलिफ्ट किया गया. बाकी 40 लोग रस्सी के सहारे बाहर निकाले गए. एसपी हिंगानकर ने बताया कि झरने में फंसे हुए लोगों का निकाल लिया गया है. वहीं, झरने में बहे लोगों की तलाश के लिए एनडीआरएफ की टीम ने गुरुवार सुबह से ऑपरेशन शुरू कर दिया.

पुलिस के मुताबिक, शाम करीब 4 बजे 45-55 लोग झरने में नहा रहे थे. इसी दौरान अचानक से झरने में जलस्तर बढ़ गया. लोग जान बचाने के लिए भागने लगे. इसी दौरान कई लोगों के झरने में बह जाने की सूचना है. जबकि 45 लोग झरने के बीच में फंस गए. इन सभी 45 लोगों को करीब 10 घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बचा लिया गया. अंधेरा होने के बाद रेस्क्यू ऑपरेशन को बंद कर दिया था.

टीआई अमित शर्मा ने बताया कि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि कितने लोग झरने में बहे हैं. शुरुआत में 10-11 लोगों के बहने की सूचना आई थी. लेकिन, अब तक 6 लोगों के परिजनों ने अपने बच्चों के लापता होने की सूचना दी है. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया कि बिना सूचना के बांध का पानी छोड़ा गया जिससे अचानक झरने का जलस्तर बढ़ा और यह हादसा हुआ.



loading...