ताज़ा खबर

मध्य प्रदेश के शिवपुरी में पिकनिक मनाने गये झरने में फंसे 45 लोग बचाए गये, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

महात्मा गांधी पर विवादित पोस्ट लिखने वाले मध्य प्रदेश भाजपा प्रवक्ता अनिल सौमित्र को पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखाया

लोकसभा चुनाव 2019 की आखिरी रैली में बोले पीएम मोदी, ‘फिर एक बार मोदी सरकार, अबकी बार 300 पार’

MPBSE Result 2019: 10वीं और 12वीं के नतीजे घोषित, लड़कियों ने मारी बाजी

Lok Sabha Election: रतलाम में पीएम मोदी ने कहा- देश ‘गालीपंथी’ से नहीं ‘राष्‍ट्रभक्ति’ से चलेगा

मध्यप्रदेश: भोपाल में दिग्विजय सिंह के रोड शो के दौरान लगे मोदी-मोदी के नारे, पुलिस ने 4 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया

मध्यप्रदेश: किसानों की कर्जमाफी से जुड़े दस्तावेज लेकर पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान के आवास पर पहुंचे कांग्रेस के नेता

2018-08-16_ShivpuriPicnic.jpg

मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले के सुल्तानगढ़ झरने में बुधवार शाम अचानक जलस्तर बढ़ने से फंसे सभी 45 लोग बचा लिए गए हैं. ये लोग स्वतंत्रता दिवस के मौके पर यहां पिकनिक मनाने के लिए आए थे. 5 लोगों को हेलिकॉप्टर की मदद से एयरलिफ्ट किया गया. बाकी 40 लोग रस्सी के सहारे बाहर निकाले गए. एसपी हिंगानकर ने बताया कि झरने में फंसे हुए लोगों का निकाल लिया गया है. वहीं, झरने में बहे लोगों की तलाश के लिए एनडीआरएफ की टीम ने गुरुवार सुबह से ऑपरेशन शुरू कर दिया.

पुलिस के मुताबिक, शाम करीब 4 बजे 45-55 लोग झरने में नहा रहे थे. इसी दौरान अचानक से झरने में जलस्तर बढ़ गया. लोग जान बचाने के लिए भागने लगे. इसी दौरान कई लोगों के झरने में बह जाने की सूचना है. जबकि 45 लोग झरने के बीच में फंस गए. इन सभी 45 लोगों को करीब 10 घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बचा लिया गया. अंधेरा होने के बाद रेस्क्यू ऑपरेशन को बंद कर दिया था.

टीआई अमित शर्मा ने बताया कि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि कितने लोग झरने में बहे हैं. शुरुआत में 10-11 लोगों के बहने की सूचना आई थी. लेकिन, अब तक 6 लोगों के परिजनों ने अपने बच्चों के लापता होने की सूचना दी है. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया कि बिना सूचना के बांध का पानी छोड़ा गया जिससे अचानक झरने का जलस्तर बढ़ा और यह हादसा हुआ.



loading...