महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव: शिवसेना ने जारी किया घोषणा पत्र, 10 रुपए में गरीबों को भोजन देने की योजना

बीजेपी-शिवसेना विवाद पर बोले आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, कहा- झगड़े से हमेशा दोनों पक्षों की ही हानि होती है

महाराष्ट्र: शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा- सरकार बनाने की जिम्मेदारी हमारी नहीं थी, भाजपा छोड़कर भागी

शिवसेना ने ‘सामना’ के जरिए बीजेपी पर साधा निशाना, कहा- महाराष्ट्र के नए समीकरण से कुछ लोगों के पेट में दर्द

महाराष्ट्र: गठबंधन सरकार का रास्ता साफ, शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के नेता आज राज्यपाल से करेंगे मुलाकात

महाराष्ट्र: बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल बोले- हमारी पार्टी के बिना कोई सरकार नहीं बन सकती है

महाराष्ट्र में गठबंधन सरकार बनना तय, कल राज्यपाल से मिलेंगे शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के नेता

2019-10-12_ShivsenaManifesto.jpg

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव को लेकर शिवसेना ने शनिवार को अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया. महाराष्ट्र में शिवसेना, भाजपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है, लेकिन घोषणापत्र को लेकर सहमति न बन पाने की वजह से शिवसेना ने अलग घोषणापत्र जारी करने का फैसला किया.

शनिवार को पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे, उनके बेटे और वर्ली विधानसभा सीट से उम्मीदवार आदित्य ठाकरे, पार्टी की उपनेता प्रियंका चतुर्वेदी ने संयुक्त रूप से पार्टी का घोषणापत्र जारी किया.

मेनिफेस्टो में बाला साहेब ठाकरे और उद्धव ठाकरे की तस्वीर है. मेनिफेस्टो में आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों की शिक्षा के लिए महाविद्यालय, हर जिले में एक महिला बचत घर, कामकाजी महिलाओं के लिए सरकारी हॉस्टल, रोजगार और स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों को दुरुस्त करने का वादा किया गया है.

मेनिफेस्टो जारी करने के दौरान शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि हमें क्षेत्रवादी और धर्मनिरपेक्ष कहा जाता था. दशकों पहले हमारे पास भूमि पुत्र का मुद्दा था. अब कांग्रेस और एनसीपी बेकार हो गए हैं, इसलिए वे भूमि पुत्र का मुद्दा उठा रहे हैं.
 



loading...