ताज़ा खबर

केजरीवाल के मुस्लिम वोटर वाले बयान पर शीला दीक्षित का पलटवार, कहा- लोग जिसे चाहें उसे दे सकते हैं वोट

2019-05-18_ShielaDikshit.jpg

राजधानी दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने लोकसभा चुनाव 2019 में आम आदमी पार्टी की स्थिति को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी दिल्ली की सातों सीटों पर जीत दर्ज करने जा रही थी, लेकिन ऐन मौके पर आए 'वोटिंग टि्वस्ट' से जीती हुई बाजी पलट गई. यही नहीं, उन्होंने 23 मई को मतगणना शुरू होने से पहले एक बार फिर ईवीएम टैंपरिंग का राग छेड़ दिया है.

इस पर पलटवार करते हुए दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित ने कहा, 'आखिरी समय में दिल्ली में मुस्लिम वोट कांग्रेस में स्थानांतरित हो गए', पता नहीं वह (सीएम केजरीवाल) क्या कहना चाह रहे है. सभी को अधिकार है कि जो जिस पार्टी को वोट देना चाहता है, उसे वोट दे सकता है. दिल्ली के लोग न ही उनके शासन मॉडल को समझते हैं और न ही पसंद करते हैं.

अंग्रेजी समाचारपत्र इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में अरविंद केजरीवाल ने यह कहकर सनसनी फैला दी कि आप का सारा का सारा वोट कांग्रेस को शिफ्ट हो गया है. आप को दिल्ली में कितनी सीटों पर जीत मिलेगी प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा, 'देखिए क्या होता है. दरअसल चुनाव के 48 घंटे पहले तक हमें लग रहा था कि सातों सीट पर आम आदमी पार्टी को जीत मिलेगी, लेकिन आखिरी लम्हों में सारा का सारा वोट कांग्रेस को चला गया. यह सब चुनाव से एक दिन पहले हुआ. हम पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि आखिए ऐसा क्यों हुआ. यहां 12-13 फीसदी वोट मुसलमानों के हैं.' आपको बता दें कि आप ने अंतिम क्षणों तक दिल्ली में कांग्रेस के साथ गठबंधन की कोशिशें की थीं, लेकिन बात नहीं बनी.

यही नहीं, बीजेपी के दोबारा सत्ता में आने के सवाल पर केजरीवाल ने कहा है कि अगर ईवीएम से छेड़छाड़ नहीं हुई तो मोदीजी की प्रधानमंत्री बतौर वापसी मुश्किल है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अगर केंद्र में मोदी और अमित शाह के बगैर सरकार बनती है, तो वह समर्थन देने को तैयार हैं, लेकिन दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने के वादे पर ही आप पार्टी केंद्र की गैर-मोदी सरकार में शामिल होंगे. आपको बता दें कि 2014 में आप को दिल्ली की सातों सीटों पर करारी हार का सामना करना पड़ा था.



loading...