शशांक मनोहर लगातार दूसरी बार बने आईसीसी अध्यक्ष, निर्विरोध हुआ चुनाव

खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ से मिले बजरंग पुनिया, कहा- सही जवाब नहीं मिला तो कोर्ट जाऊंगा

Asia Cup 2018: टीम इंडिया के लिए बुरी खबर, हार्दिक पांड्या के बाद यह 2 खिलाडी भी हुए टीम से बाहर, इन खिलाडियों को मिला मौका

Asia Cup 2018: पाक की करारी हार पर बोले सरफराज अहमद, हमने 2 स्पिनर के लिए की तैयारी, तीसरे ने खेल बिगाड़ दिया

Asia Cup 2018: टीम इंडिया के कप्तान रोहित शर्मा ने पाकिस्तान के खिलाफ लगाया ‘बुर्ज खलीफा’ से भी ऊँचा छक्का

Asia Cup 2018: टीम इंडिया में पाकिस्तान से लिया चैंपियन ट्राफी का बदला, अब तक की सबसे बड़ी जीत

Asia Cup 2018: शुरुआत में लड़खड़ाई पारी को फिर लगा झटका, पाकिस्तान का स्कोर 86/3

2018-05-16_shashank-headquarters-manohar.jpg

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के पूर्व अध्यक्ष शशांक मनोहर को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) का दोबारा स्वतंत्र चेयरमैन चुना गया है। उन्हें दूसरे कार्यकाल के लिए निर्विरोध निर्वाचित किया गया। मनोहर को साल 2016 में पहली बार आईसीसी का स्वतंत्र चेयरमैन चुना गया था और अब निर्विरोध निर्वाचित होने के बाद वह अगले दो साल तक इस पद की जिम्मेदारी संभालना जारी रखेंगे।

चुनावी प्रक्रिया के मुताबिक आईसीसी निदेशकों में से प्रत्येक को एक उम्मीदवार को नामित करने की अनुमति होती है। उम्मीदवार वर्तमान या पूर्व आईसीसी निदेशक होना चाहिए। जिस नामित को दो या इससे अधिक निदेशकों का समर्थन मिलता है वह चुनाव लड़ने के योग्य माना जाता है।

मनोहर के मामले में में स्थिति अलग बनी और वह नामित किए जाने वाले अकेले उम्मीदवार बने। चुनाव प्रक्रिया को देख रहे ऑडिट कमेटी के चेयरमैन एडवर्ड क्विनलैन ने प्रक्रिया पूर्ण होने और मनोहर के सफल उम्मीदवार होने की घोषणा की।

मनोहर का दूसरे कार्यकाल के लिए चुना जाना पिछले महीने कोलकाता में आईसीसी की तिमाही बैठक में ही तय हो गया था, क्योंकि उनकी उम्मीदवारी का किसी ने विरोध नहीं किया था।

पिछले दो वर्षों में मनोहर ने खेल में कई महत्वपूर्ण सुधार किए। उन्होंने 2014 के प्रस्ताव को पलट दिया था। संशोधित शासन ढांचा लागू किया, जिसमें आईसीसी की पहली स्वतंत्र महिला निदेशक की नियुक्ति भी शामिल है।

घोषणा के बाद मनोहर ने कहा, 'आईसीसी का फिर से चेयरमैन चुना जाना सम्मान की बात है तथा मैं अपने सहयोगी आईसीसी निदेशकों का उनके समर्थन के लिए आभार व्यक्त करता हूं। पिछले दो वर्षों में हमने मिलकर आगे कदम बढ़ाए हैं और मैंने 2016 में नियुक्ति के समय जो वादे किए थे, उन्हें पूरा किया है।'



loading...