ताज़ा खबर

शर्मिष्ठा मुख़र्जी ने दिया BJP नेता सुब्रमण्यम स्वामी को जवाब, कहा- हम लोकतांत्रिक और तर्कशील परिवार हैं, मैंने सब अपने पिता से सिखा है

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा- अच्छा हिंदू नहीं चाहता अयोध्या में राम मंदिर बने, सुब्रमण्यम स्वामी ने कह दिया नीच आदमी

#MeToo: लपेटे में आए केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर ने प्रिया रमानी के खिलाफ दर्ज कराया मानहानि का केस

#MeToo: लपेटे में आए केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर को इस्तीफा देने का आदेश दे सकती हैं बीजेपी

पीएम मोदी ने पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों पर वित्त मंत्री अरुण जेटली और अन्य वरिष्ठ मंत्रियों संग की बैठक

पीएम मोदी 31 अक्तूबर को करेंगे सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का अनावरण

CJI रंजन गोगोई का नया फैसला, वर्किंग-डे पर जजों की छुट्टी पर लगाया बैन

2018-06-08_pranamukherjeesharmishta.jpg

अपने पिता से भिन्न विचार रखने पर बेटी शर्मिष्ठा ने कहा कि उनके परिवार में लोकतंत्र और तर्कशीलता है. ये बात उन्होंने बीजेपी के नेता सुब्रमण्यम स्वामी के बयान पर कही. भूतपूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की बेटी और कांग्रेस नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने कहा कि उनका परिवार ‘लोकतांत्रिक और तर्कशील’ है. अपने पिता के साथ मतभेद जताने में उन्हें कोई परेशानी नहीं है. आपको बता दें शर्मिष्ठा ने अपने पिता को आरएसएस के प्रोग्राम में न जाने की नसीहत दी थी. 

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के आरएसएस के कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि जाने पर सवाल खड़े करने वाली शर्मिष्ठा ने भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी की कथित टिप्पणियों के जवाब में यह बात कही. स्वामी ने शर्मिष्ठा के पिता से भिन्न विचार रखने का कथित तौर पर समर्थन किया.

शर्मिष्ठा ने आरएसएस के कार्यक्रम से जुड़ी मुखर्जी के तस्वीरों के साथ छेड़छाड़ करके सोशल मीडिया में शेयर किए जाने पर कहा था, ‘देखिए, मुझे इसी का डर था और इसके बारे में मैंने अपने पिता को आगाह किया था. कुछ घंटे भी नहीं बीते कि भाजपा एवं आरएसएस का डर्टी ट्रिक्स विभाग अपने काम में जुट गया.’ मुखर्जी ने कल ‘राष्ट्र, राष्ट्रवाद और देशप्रेम’ के बारे में RSS मुख्यालय में अपने विचार साझा करते हुए कहा था कि भारत की आत्मा ‘बहुलतावाद एवं सहिष्णुता’ में बसती है. 

सूत्रों की माने भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सब्रमण्यम स्वामी ने शर्मिष्ठा के बयान का हवाला देते हुए कहा था, ‘यह ऐसा कुछ है जिसके साथ आप बड़े होते हैं. मेरी खुद की बेटी मेरे विचारों से सहमत नहीं होती और मैं उसके विचारों से सहमत नहीं होता. परंतु हम खुशहाल परिवार हैं हमें यह सीखना चाहिए कि हर व्यक्ति के अपने विचार होते हैं.’ 

इसके जवाब में शर्मिष्ठा ने ट्वीट किया, ‘निश्चित तौर पर. इसी तरह मैं पली-बढ़ी हूं. इसलिए मुझे विभिन्न मुद्दों पर उनके साथ सार्वजनिक रूप से अलग विचार व्यक्त करने में कोई दिक्कत नहीं होती. हम लोकतांत्रिक, तर्कशील परिवार हैं और यह मैंने अपने पिता से ही सीखा है.’



loading...