उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में नकली खून बेचने वालों का भंडाफोड़, केमिकल और पानी मिलाकर 2 को बनाते थे 3 यूनिट

यूपी: कुंडा से निर्दलीय विधायक राजा भैया ने नई पार्टी की घोषणा, कहा- जाति नहीं योग्यता के आधार पर हो आरक्षण

चुनाव आचार संहिता उल्लंघन मामले में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने किया समर्पण, मिली जमानत

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में प्रिंटर से 500 और 2000 के नकली नोट छापने वाले गिरोह का भंडाफोड़, 1 गिरफ्तार

योगी कैबिनेट ने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज और फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या करने पर लगाई मुहर

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया मल्टी मॉडल टर्मिनल का उद्घाटन

अब अयोध्या और मथुरा के लिए योगी सरकार ने तैयार किया बड़ा प्लान, मांस-मदिरा की बिक्री और सेवन पर लगेगा पूर्ण प्रतिबंध

2018-10-26_FakeBlood.jpg

यूपी एसटीएफ ने राजधानी लखनऊ में चल रहे खून के काले कारोबार का भंडाफोड़ करते हुए सात लोगों को दबोचा है. पकड़े गए आरोपी केमिकल और पानी मिलाकर खून का काला कारोबार कर रहे थे. एसटीएफ ने गुरुवार देर रात मड़ियांव स्थित दो हॉस्पिटलों में छापा मारकर आठ यूनिट खून बरामद किया. यूपी एसटीएफ मामले की जांच कर रही है. देर रात तक एसटीएफ ब्लड बैंक के दस्तावेज और कर्मचारियों का ब्यौरा खंगाल रही थी.

एसटीएफ की यह छापेमारी काफी गोपनीय रही. स्थानीय पुलिस को भी इसकी भनक नहीं लगी. गिरोह का सरगना नसीम बताया जा रहा है. उसकी निशानदेही पर देर रात तक फैजुल्लागंज और कैंट में दबिश जारी थी. इस मामले में डीजीपी मुख्यालय में आज प्रेस कांफ्रेंस हो सकती है.

एसटीएफ के मुताबिक, मड़ियांव में यह काला कारोबार काफी लंबे समय से चल रहा था, एसटीएफ ने करीब 15 दिनों तक ब्लड बैंक की रेकी की. सबूत और साक्ष्य जुटाने के बाद एसटीएफ के डिप्टी एसपी अमित नागर के नेतृत्व में देर रात तक छापेमारी जारी रही.

एसटीएफ के मुताबिक आरोपी केमिकल और पानी मिलाकर दो यूनिट से तीन यूनिट खून बनाते थे. यहां बिना किसी मेडिकल डिग्री के कर्मचारी काम कर रहे थे. ब्लड बैंक में किसी डॉक्टर की तैनाती नहीं थी. गिरफ्तार किए गए सभी युवक इंटर तक पढ़े हैं. एक यूनिट मिलावटी खून के लिए 3500 रुपये वसूलते थे. यह गिरोह मजदूरों और रिक्शाचालकों से 1000-1200 में खून खरीदता था और उसमें केमिकल और पानी मिलाता था.



loading...