सतना रेप केस में सुप्रीम कोर्ट ने फांसी की सजा को उम्रकैद में बदला

महात्मा गांधी पर विवादित पोस्ट लिखने वाले मध्य प्रदेश भाजपा प्रवक्ता अनिल सौमित्र को पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखाया

लोकसभा चुनाव 2019 की आखिरी रैली में बोले पीएम मोदी, ‘फिर एक बार मोदी सरकार, अबकी बार 300 पार’

MPBSE Result 2019: 10वीं और 12वीं के नतीजे घोषित, लड़कियों ने मारी बाजी

Lok Sabha Election: रतलाम में पीएम मोदी ने कहा- देश ‘गालीपंथी’ से नहीं ‘राष्‍ट्रभक्ति’ से चलेगा

मध्यप्रदेश: भोपाल में दिग्विजय सिंह के रोड शो के दौरान लगे मोदी-मोदी के नारे, पुलिस ने 4 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया

मध्यप्रदेश: किसानों की कर्जमाफी से जुड़े दस्तावेज लेकर पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान के आवास पर पहुंचे कांग्रेस के नेता

2019-03-13_supreme-court-on.JPG

मध्यप्रदेश के सतना में साल 2015 में पांच साल की बच्ची से बलात्कार और हत्या मामले में आज सुनवाई हुई. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में दोषी को राहत दी है. सुप्रीम कोर्ट ने मौत की सजा को पलटते हुए 25 साल की सजा सुनाई है. मंगलवार को हुई सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि दोषी को कोई छूट नही मिलेगी और 25 साल से पहले वह जेल से रिहा नहीं हो सकता. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में मामले को रेयरेस्ट ऑफ द रेयर नहीं माना है.

आपको बता दें कि 2015 में मध्यप्रदेश के सतना जिले में 23 फरवरी, 2015 को बच्‍ची का भाई उसे स्कूल पहुंचाने जा रहा था, तभी रास्ते में गांव के ही मैजिक चालक सचिन सिंगरहा ने उसे रोककर बहन को गाड़ी में बैठाया था और कहा था वह उसे स्कूल छोड़कर आएगा, लेकिन जब देर रात बच्ची नहीं लौटी तो परिजनों ने पुलिस में मामला दर्ज कराया. 

पुलिस के अनुसार, पूछताछ के दौरान आरोपी मैजिक चालक ने पहले तो पुलिस को गुमराह करने का प्रयास किया, लेकिन बाद में वह टूट गया और पूरी घटना का खुलासा कर दिया. आरोपी ने पुलिस को बताया था कि उसके वाहन में बच्ची अकेली थी, जिसे देखकर उसकी हवस जाग गई और उसने सुनसान इलाके में ले जाकर पहले बच्ची के साथ रेप किया, और फिर गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी, तथा शव को नहर के किनारे एक कुएं में फेंक दिया, जहां से बाद में पुलिस ने शव को बरामद किया.



loading...