जिंदगी की जंग हार गया 2 साल का फतेहवीर सिंह, 109 घंटे बाद बोरवेल से बाहर निकाला गया

पंजाब के गुरदासपुर में पटाखा फैक्ट्री में धमाका, 18 लोगों की मौत, कई के मलबे में दबे होने की आशंका

पंजाब: हाईकोर्ट ने धार्मिक स्थलों पर बिना इजाजत के लाउडस्पीकर बजाने पर लगाई रोक

पंजाब: सीएम अमरिंदर सिंह ने स्वीकार किया नवजोत सिंह सिद्धू का इस्तीफा, अंतिम फैसले के लिए गवर्नर को भेजा

नवजोत सिंह सिद्धू ने सीएम अमरिंदर सिंह को भेजा इस्तीफा, कैप्टन बोले- सोच विचार कर ही करेंगे फैसला

जालंधर-अमृतसर हाईवे पर फ्लाईओवर से नीचे गिरी स्कूल बस, कई बच्चे समेत ड्राइवर भी घायल

पंजाब: लुधियाना की सेंट्रल जेल में कैदियों और पुलिस में फायरिंग, 1 की मौत, DSP की गाड़ी फूंकी

2019-06-11_Borewel.jpg

पंजाब के संगरूर में बोरवेल में गिरे दो वर्षीय बच्चे फतेहवीर सिंह आखिरकार जिंदगी से हार ही गया. पीजीआई चंडीगढ़ में उसकी मौत हो गई. तड़के करीब पांच बजे उसे 109 घंटे बाद बोरवेल से निकाला गया और पहले नजदीकी अस्पताल ले जाया गया. वहां प्राथमिक उपचार देने के बाद उसे पीजीआई चंडीगढ़ ले जाया गया. अस्पताल में ही मासूम की मौत हो गई.

आपको बता दें 6 जून को घर के सामने ही खेतों में खेलते समय 150 फीट गहरे बोरवेल में गिरे दो साल के बच्चे फतेहवीर सिंह को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन 5 दिन के बाद आखिरकार सफल हुआ था लेकिन आज अस्पताल में उसकी मौत हो गई. गरुवार 6 जून की शाम करीब चार बजे खेलने के दौरान वह इस्तेमाल न किए जा रहे बोरवेल में गिर गया था. मासूम बच्‍चे को निकालने के लिए सेना और एनडीआरएफ की टीमें जुटी हुई थीं.

फतेहवीर को बाहर निकालने के बाद उसे अस्पताल ले जाया गया था. फतेहवीर सिंह के बोरवेल में फंसे होने की सूचना मिलते ही सेना-एनडीआरएफ की टीमें उसे बचाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगाए हुए थी. बचावकर्मियों की कड़ी मशक्त के बाद सोमवार को आखिरकार सफलता मिली. बच्चे को आज बोरवेल के समानांतर खोदी गई टनल की मदद से बाहर निकाल लिया गया. वहीं किसी आपात स्थिति से निपटने के लिए डॉक्टरों और एंबुलेंस की टीमें पहले से मौके पर मौजूद थी.



loading...