हितों के टकराव मामले में सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्मण को मिला नोटिस, 14 मई को होगी पेशी

ICC World Cup 2019: टीम इंडिया के लिए खुशखबरी, केदार जाधव फिट घोषित

कप्तान विराट कोहली को मिला सर्वश्रेष्ठ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर और बल्लेबाज का खिताब, बुमराह बने सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज

IPL 2019: दूसरे एलिमिनेटर मुकाबले में आज दिल्ली कैपिटल्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच होगी आगे निकलने की जंग, हारने वाली टीम होगी बाहर

लोकसभा चुनाव: महेन्द्र सिंह धोनी ने रांची में परिवार के साथ किया मतदान, जीवा ने लोगों से वोट डालने की अपील

IPL 2019: रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को उसके गढ़ में मात देने उतरेगी सनराइजर्स हैदराबाद, डेविड वार्नर और जॉनी बेयरस्टो की खलेगी कमी

IPL 2019: आंद्रे रसेल को अपने घरेलू मैदान पर रोक पाएंगे अश्विन, आज KXIP और KKR के बीच कड़ा मुकाबला

2019-05-07_SachinLaxman.jpeg

पूर्व भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्मण को हितों के टकराव मामले में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) लोकपाल ने समन भेजा है. बीसीसीआई के एथिक्स (नैतिक) अधिकारी और लोकपाल डीके जैन ने दोनों को निजीतौर पर सुनवाई के लिए 14 मई की तारीख दी है. मामले में शिकायतकर्ता मध्यप्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के सदस्य संजीव गुप्ता और बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी को भी गवाही के लिए बुलाया गया.

संजीव ने आरोप लगाया था कि ये दोनों क्रिकेट सलाहकार समिति के सदस्य हैं. इसके अलावा तेंदुलकर मुंबई इंडियंस के ‘आइकन’ और लक्ष्मण सनराइजर्स हैदराबाद के मेंटर के रूप में दोहरी भूमिका निभा रहे हैं. हालांकि, दोनों क्रिकेटर्स ने इन आरोपों से इनकार किया है. सचिन ने लोकपाल के नोटिस का जवाब देते हुए कहा था कि मौजूदा हालात के लिए बीसीसीआई ही जिम्मेदार है.

सचिन ने बीसीसीआई लोकपाल को दिए 13 पॉइंट के अपने जवाब में कहा था कि वे प्रशासकों की समिति (सीओए) के प्रमुख विनोद राय और सीईओ राहुल जौहरी से पूछें कि सीएसी में उनकी भूमिका क्या है?

लोकपाल के नोटिस के जवाब में लक्ष्मण ने विनोद राय के नेतृत्व वाली प्रशासकों की समिति (सीओए) पर संवादहीनता का आरोप लगाया था. लक्ष्मण ने कहा था- सीओए क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी (सीएसी) का इस्तेमाल सिर्फ सीनियर टीम के कोच के चयन के लिए करता है. हमारे किरदार को अब तक विस्तार से बताया नहीं गया. हमसे व्यापक भूमिका का वादा किया गया था. उन्होंने कहा कि अगर टकराव की बात आती है, तो मैं उसका विरोध करने के लिए तैयार हूं.

बीसीसीआई के संविधान के अनुच्छेद 38 (3) (ए) के मुताबिक, ऐसे विवाद जिन्हें हितों का खुलासा करने पर सुलझाया जा सके वे ‘ट्रैक्टबल कन्फ्लिक्ट’ की श्रेणी में आते हैं. लक्ष्मण और गांगुली की तरह सचिन का भी कहना है कि सीईओ और सीओए ने अब तक उनकी भूमिका स्पष्ट ही नहीं की है.



loading...