केरल में आज बंद होंगे सबरीमाला मंदिर के द्वार, एक भी महिला नहीं कर पाई एंट्री

सबरीमाला मंदिर में सबसे पहले एंट्री कर दर्शन करने वाली महिला को सास ने पीटा, हॉस्पिटल में भर्ती

गूगल सर्च में Bad Chief Minister सर्च करने पर आ रहा है केरल के सीएम पिनराई विजयन का नाम, समर्थकों ने RSS पर लगाया आरोप

केरल में सबरीमाला मामले को लेकर हिंसक प्रदर्शन, भाजपा और सीपीआईएम नेता के घर बम से हमला

केरल: सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर प्रदर्शन, झड़प में 1 की मौत, CM ने कड़ी कार्रवाई के दिए निर्देश

सबरीमाला मंदिर में 2 महिलाओं ने प्रवेश कर भगवान अयप्पा के किए दर्शन, केरल में हाई अलर्ट

कोच्चि में नौसेना बेस पर बड़ा हादसा, एयरक्राफ्ट हैंगर गिरने से दो जवानों की मौत

2018-10-22_SabrimalaTemple.jpg

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद सबरीमाला मंदिर में 10 साल की बच्ची से लेकर 50 साल तक की कोई भी महिला प्रवेश नहीं कर सकी. मंदिर के पट छह दिन खुले रहने के बाद सोमवार रात 11 बजे एक महीने के लिए बंद कर दिए जाएंगे. यहां कई महिलाओं ने प्रवेश की कोशिश की, लेकिन भारी विरोध की वजह से उन्हें कामयाबी नहीं मिली.

सुप्रीम कोर्ट इस मामले में दायर की गईं नई रिव्यू पिटीसन पर मंगलवार को सुनवाई करेगा. शीर्ष अदालत ने 28 सितंबर को सबरीमाला मंदिर में हर उम्र की महिलाओं को प्रवेश करने की इजाजत दी थी. इस आदेश के बाद 17 अक्टूबर को मंदिर मासिक पूजा के लिए खोला गया था.

सबरीमाला मंदिर में भगवान अयप्पा की मूर्ति स्थापित है. माना जाता है कि वे ब्रह्मचारी हैं. ऐसे में यहां पीरियड की उम्र (10 से 50 साल) वाली महिलाओं का प्रवेश प्रतिबंधित था. यह प्रथा 800 साल से चली आ रही थी.

सबरीमाला मंदिर पत्तनमतिट्टा जिले के पेरियार टाइगर रिजर्व क्षेत्र में है. 12वीं सदी के इस मंदिर में भगवान अय्यप्पा की पूजा होती है. मान्यता है कि अय्यपा, भगवान शिव और विष्णु के स्त्री रूप अवतार मोहिनी के पुत्र हैं. दर्शन के लिए हर साल यहां करीब पांच करोड़ लोग आते हैं.



loading...