प्रद्युम्न मर्डर केस में आखिरकार आरोपी बस कंडक्टर अशोक को कोर्ट से मिला इंसाफ

रेवाड़ी गैंगरेप केस में पुलिस ने मुख्य आरोपी निशु फोगाट को किया गिरफ्तार, SP राजेश दुग्गल का तबादला

हरियाणा के रेवाड़ी में राष्ट्रपति से सम्मानित छात्रा को अगवा करके 12 लड़कों ने किया दुष्कर्म, न्याय के लिए भटक रहा परिवार

गुरुग्राम में तीन मंजिला इमारत में लाउडस्पीकर से अजान, नगर निगम ने मस्जिद को किया सील

हरियाणा के कुरुक्षेत्र से बीजेपी के सांसद राजकुमार सैनी ने अपनी नई पार्टी का किया ऐलान, 2 सितंबर को करेंगे रैली

हरियाणा के रोहतक में कोर्ट में गवाही पर आई लड़की और सब इंस्पेक्टर की गोली मारकर हत्या, पुलिस ने ऑनर किलिंग का शक जताया

राजस्थान के बाद अब हरियाणा में भीड़ हिंसा का कहर, भैंस चुराने के शक में 2 लोगों को पीट-पीटकर मार डाला

2018-02-28_ashok-kumar-acquitted.jpg

गुरुग्राम के चर्चित प्रद्युम्न मर्डर केस में आरोपी बस कंडक्टर आशोक कुमार को कोर्ट ने बरी कर दिया है। रेयान इंटरनेशनल स्कूल में छात्र प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या के बाद गुरुग्राम पुलिस ने अशोक कुमार को मुख्य आरोपी बनाया था। लेकिन बाद में सीबीआई की जांच के दौरान उसे क्लीन चिट दे दी गई थी। अब चाइल्ड स्पेशल कोर्ट ने बुधवार को अशोक को बरी कर दिया है।

इसके अलावा कोर्ट ने स्कूल के अधिकारी जेएस थॉमस और फ्रांसिस थॉमस को 10 अप्रैल को पेश होने का आदेश दिया है। साथ ही सीबीआई और स्टेट पुलिस के एफआईआर को मर्ज करने का आदेश दिया है। इतना ही नहीं कोर्ट ने 10 अप्रैल तक सीबीआई को अपनी जांच पूरी करके फाइनल चार्जशीट दाखिल करने को कहा है।

बता दें कि 22 नवंबर को कोर्ट बस कंडक्टर अशोक कुमार कोर्ट ने जमानत दे दी थी।  रिहाई के बाद उसने कहा था, ‘मैं भगवान का शुक्रगुजार हूं कि उसने मुझे न्याय दिया। हमें न्यायपालिका पर पूरा विश्वास है। मुझे हिरासत में टॉर्चर किया गया। करंट के झटके दिए गए। थर्ड डिग्री देकर जुर्म कबूल करने के लिए मजबूर किया गया था।’

कोर्ट के इस फैसले के बाद अशोक और उसके परिवार ने खुशी जाहिर की है। अशोक की पत्नी ने कहा कि ‘मुझे पहले से ही पता था कि मेरा पति निर्दोष है। उसने कभी अपने बच्चों पर हाथ तक नही उठाया, वो किसी मासूम की हत्या कैसे कर सकता है।



loading...