रायन मर्डर केस: आरोपी स्टूडेंट को कोर्ट से नहीं मिली जमानत, कोर्ट ने खारिज की पिटीशन

2018-01-08_murdercase6-bail-rejected.jpg

प्रद्युम्न हत्याकांड केस में सोमवार को कोर्ट ने 11वीं के आरोपी स्टूडेंट की बेल पिटीशन को खारिज कर दिया। इससे पहले शनिवार को कोर्ट में आरोपी की जमानत पर बहस पूरी हुई थी। कोर्ट ने फैसले को सुरक्षित रख लिया था। प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर की तरफ से पैरवी कर रहे वकील सुशील टेकरीवाल ने स्टूडेंट की जमानत का विरोध किया था।

जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने आरोपी 11वीं के स्टूडेंट पर बालिग मानकर केस चलाने का फैसला सुनाया था। इस फैसले के पीछे आरोपी स्टूडेंट की सामाजिक और मनोवैज्ञानिक रिपोर्ट की अहम भूमिका रही। सामाजिक रिपोर्ट में सामने आया था कि स्टूडेंट काफी आक्रामक है। दूसरी ओर मनोवैज्ञानिक रिपोर्ट में डॉक्टरों ने स्टूडेंट से बातचीत कर उसकी मनोस्थिति के बारे में बताया था कि अलग-अलग परिस्थितियों में वह किस तरह का बर्ताव करता है।

बता दें, गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर को 7 साल के प्रद्युम्न ठाकुर का मर्डर कर दिया गया था। बॉडी टॉयलेट में मिली थी। इस मामले में पुलिस ने स्कूल बस के कंडक्टर अशोक कुमार को अरेस्ट किया था। बाद में जांच सीबीआई को सौंपी गई। सीबीआई ने कंडक्टर अशोक को आरोपी न बनाकर 11वीं के स्टूडेंट को आरोपी बनाया और गिरफ्तार कर लिया। जुवेनाइल कोर्ट में सुनवाई हुई, जिसमें स्टूडेंट पर बालिग की तरह केस चलाने का फैसला सुनाया गया। अब चाइल्ड ट्रायल कोर्ट में केस की सुनवाई चल रही है।



loading...