ताज़ा खबर

विदेशी ताकतों ने तोड़ा था राम मंदिर, जहां था दोबारा वहीं बनाएंगे: मोहन भागवत

पीएम मोदी ने पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों पर वित्त मंत्री अरुण जेटली और अन्य वरिष्ठ मंत्रियों संग की बैठक

पीएम मोदी 31 अक्तूबर को करेंगे सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का अनावरण

CJI रंजन गोगोई का नया फैसला, वर्किंग-डे पर जजों की छुट्टी पर लगाया बैन

फ्रांस दौरे पर गईं निर्मला सीतारमण ने रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ली की बातचीत, कहा- दसाल्ट ने ही किया था रिलायंस से करार का फैसला

#MeToo: लपेटे में आए केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर आज विदेश से लौटेंगे, इस्तीफे की हो रही मांग

राफेल डील पर राहुल गांधी ने कहा- प्रधानमंत्री मोदी भ्रष्ट हैं, जवाब नहीं दे सकते तो इस्तीफा दें

2018-04-16_mohan54.jpg

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने एक बार फिर राम मंदिर निर्माण को लेकर बड़ा बयान दिया है. मोहन भागवत ने कहा कि यदि अयोध्या में राम मंदिर फिर से नहीं बनाया गया तो हमारी संस्कृति की जड़ें कट जाएंगी. भागवत ने पालघर जिले के दहानू में विराट हिंदू सम्मेलन को संबोधित करते हुए यह टिप्पणी की.

आरएसएस प्रमुख ने कहा कि भारत में मुस्लिम समुदाय ने राम मंदिर नहीं तोड़ा, भारतीय नागरिक ऐसी चीजें नहीं कर सकते. भारतीयों का मनोबल तोड़ने के लिए विदेशी ताकतों ने मंदिरों को तोड़ा. 

उन्होंने कहा कि लेकिन आज हम आजाद हैं हमें उसे फिर से बनाने का अधिकार है जिसे नष्ट किया गया था, क्योंकि वे सिर्फ मंदिर नहीं थे बल्कि हमारी पहचान के प्रतीक थे.
भागवत ने कहा कि यदि (अयोध्या में) राम मंदिर फिर से नहीं बनाया गया तो हमारी संस्कृति की जड़ें कट जाएंगी. इसमें कोई शक नहीं कि मंदिर वहीं बनाया जाएगा, जहां वह पहले था. और इसके लिए किसी भी लड़ाई के लिए हम तैयार हैं. गौरतलब है कि राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद उच्चतम न्यायालय में है.

आरएसएस प्रमुख ने विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधते हुए उन्हें देश के कई हिस्सों में हुई हालिया जातिगत हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहराया. भागवत ने कहा कि जिनकी दुकानें बंद हो गईं (जो चुनाव में हार गए) वे अब लोगों को जाति के मुद्दों पर लड़ने के लिए उकसा रहे हैं.
 



loading...